धरती के गर्भ से मिला 1200 साल पुराना महल! वैज्ञानिकों के सजावट की वस्तुएं देखकर उड़ गए होश

यरुशलम । इजरायल में खोजकर्ताओं को धरती के गर्भ में एक महल मिला है जो करीब 1200 साल पुराना बताया जा रहा है! वैज्ञानिकों ने जब इस महल में सजावट की वस्तूएं देखी तो उनके होश उड गए ।23 अगस्त 2022 को पुरातत्वविदों ने इजरायल में राहत नाम एक शहर में एक पुराना महल खोजा है। आपको बता दें कि ये शहर नेगेव रेगिस्तान के दक्षिणी हिस्से में मौजूद है और ये पहली बार है कि इस हिस्से में ऐसा कोई ढांचा मिला है।

इजरायल एंटिक्विटी अथॉरिटी ने दावा किया है कि ये महल 8वीं या 9वीं शताब्दी का होगा जिसे इस्लामिक एरा भी कहते हैं। महल किसी अमीर मुस्लिम परिवार का बताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार महल के बीच में एक आंगन है और उसके चारों ओर कमरे बने हुए हैं। घर के एक तरफ हॉलवे यानी दालान बना है जो पूरी तरह से मार्बल से बनाया गया है और उसकी जमीन पत्थर की बनी है। दीवारें भी बहुत खूबसूरती से सजाई गई हैं।

सबसे ज्यादा हैरानी की बात ये है कि खोजकर्ताओं को कांच के बर्तन भी यहां से मिले हैं। शानो शौकत देखकर वो यही अंदाजा लगा पा रहे हैं कि ये किसी अमीर मुस्लिम का घर रहा होगा। जानकारी के अनुसार पुरातत्व विभाग को पत्थर से बना खुफिया कमरा भी मिला है जो आंगन के नीचे यानी बेसमेंट में बनाया गया है।

जानकारों ने अंदाजा लगाया कि इस कमरे में सामान को स्टोर किया जाता रहा होगा और रेगिस्तान के बीच सामानों को ठंडा रखने के काम आता होगा। ठंडा पानी पीने के लिए भी महल में सिस्टर्न बने हुए हैं। शोधकर्ताओं की टीम में से एक माइकल ने एएफपी से बात करते हुए कहा कि इस महल में जो रहता होगा वो जरूर कोई छोटे हिस्से का राजा रहा होगा। उन्होंने बताया कि ऐसे ढांचे इससे पहले कभी नेगेव के इलाके में नहीं मिले हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper