पीएम किसान योजना में दर्ज गलत बैंक खाते या आधार नंबर को घर बैठे कराएं ठीक, क्‍या है तरीका

नई दिल्‍ली. प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि के तहत किसानों को हर साल तीन किस्‍तों में छह हजार रुपये दिए जाते हैं. लाभार्थी किसानों के बैंक खातों में अब तक 12 किस्‍तें आ चुकी हैं. 11वीं किस्‍त के मुकाबले 12वीं किस्‍त के पैसे कम किसानों को मिले हैं. 12वीं किस्‍त करीब 8 करोड़ किसानों को मिली है. किस्‍त न मिलने के कई कारण हैं. जिन किसानों ने पीएम किसान के लिए केवाईसी नहीं कराई थी, उनको सरकार ने पैसे नहीं दिए हैं.

पीएम किसान योजना में पंजीकृत किसान से संबंधित जानकारियां जैसे बैंक अकाउंट नंबर, आधार नंबर आदि, सही न होने की वजह से भी पीएम किसान योजना का पैसा अटक गया है. किसान सम्‍मान निधि योजना के तहत पंजीकृत किसान की अगर कोई जानकारी पीएम किसान पोर्टल पर गलत दर्ज हो गई है तो उसको सुधारा जा सकता है. यह काम घर बैठे ऑनलाइन हो सकता है. बैंक अकाउंट, लिंग, आधार संख्‍या आदि अगर गलत दर्ज है तो उसे ठीक करने के लिए आप ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. यह सेवा निशुल्‍क उपलब्‍ध है.

सबसे पहले प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि की आधिकारिक वेबसाइट pmkisan. gov. in पर जाएं.
Home Page पर दाईं ओर आपको Farmer’s corner का ऑप्शन देखने को मिलेगा.
फॉर्मर ऑप्‍शन के सबसे नीचे Help-Desk लिखा नजर आएगा.
Help-Desk के ऑप्शन पर क्लिक करें. एक नया पेज खुल जाएगा.
इस पेज पर आधार नंबर, अकाउंट नंबर या मोबाइल नंबर दर्ज कर Gate Data के बटन पर क्लिक करें.
एक विंडो खुल जाएगी जहां पर आपको आपकी जानकारियां दिखेंगी.
यहां Grievance Type का एक Box होगा. इस बॉक्‍स पर क्लिक कर जो भी गलती आपको सुधारनी है, उस पर क्लिक करें.
मान लें कि आपका बैंक अकाउंट गलत है तो आपको Account Number Is Not Corrected के ऑप्शन का चयन करना होगा.
अब नीचे Description box में आपको हिंदी या अंग्रेजी में अपने अकाउंट नंबर की सही जानकारी देनी होगी.
यह जानकारी दर्ज करने के बाद आपको केप्‍चा भरना होगा.
इसके बाद सबमिट के बटन पर क्लिक कर दें.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper