पुरातत्वविदों ने खोजा पांच लाख साल पुराना हाथी का दांत, वजन और लंबाई जानकर रह जाएंगे हैरान

यरुशलम। इजराइल में पुरातत्वविदों ने पांच लाख साल पुराना एक हाथी के दांत खोजने का दावा किया है। अब इस प्रकार के हाथी विलुप्त हो गए हैं। जीवविज्ञानी ईटन मोर ने दक्षिणी इजराइल के एक गांव रेवादिम के पास इसकी खोज की। उन्होंने बताया कि इस दांत का वजन 150 किलो और लंबाई 2.6-मीटर (8.5-फुट) है।

उत्खनन निदेशक एवी लेवी ने कहा कि यह बेहद संरक्षित दांत है और इसे ढूंढ़ना शानदार रहा। उन्होंने दांत के आकार को देखकर हाथी की लंबाई का भी अंदाजा लगा लिया। लेवी के मुताबिक, हाथी 16 फीट तक रहा होगा, यानी आज के अफ्रीकी हाथियों से काफी बड़ा रहा होगा। लेवी ने कहा कि इस क्षेत्र में रहने वाले प्रागैतिहासिक मनुष्य भी अफ्रीकी रहे होंगे।लेवी ने बताया दांत के बगल में चकमक पत्थर के उपकरण थे, यानी प्रागैतिहासिक मनुष्य इस पत्थर का इस्तेमाल क्षेत्र में जानवरों को काटने और उनकी चमड़ी को उधेड़ने के लिए प्रयोग में लाते होंगे, शायद हाथियों को भी काटा जाता होगा।

लेवी ने कहा कि रेवाडिम साइट पर पिछली खुदाई में हाथी की हड्डियों को पाया गया था और कई ऐसे औजार मिले थे जो इन हड्डियों से बनाये गए थे।तेल अवीव विश्वविद्यालय के एक जैविक मानवविज्ञानी हर्शकोविट्ज़ ने बताया, “हो सकता है कि प्रागैतिहासिक मनुष्यों ने इन दांतों के आसपास किसी तरह का रसम- रिवाज विकसित किया हो और कभी किसी आपदा के बाद उन्हें यह क्षेत्र छोड़ना पड़ गया हो। परिवारों को नए रहने की जगह खोजने के लिए घूमना पड़ा हो।”

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper