पूर्व कश्मीरी पत्रकार है स्थानीय पत्रकारों को आतंकी धमकियों का मास्टरमाइंड : पुलिस

श्रीनगर:सुरक्षा एजेंसियों ने जांच में पाया है कि पूर्व कश्मीरी पत्रकार मुख्तार बाबा हाल ही में स्थानीय पत्रकारों को दी गई आतंकी धमकियों का मास्टरमाइंड है। धमकी के बाद पांच कश्मीरी पत्रकारों के इस्तीफे के बाद सुरक्षा एजेंसियों ने पाया है कि पूर्व पत्रकार मुख्तार बाबा उन पत्रकारों को धमकी देने का मास्टरमाइंड है। पत्रकारों पर सुरक्षा बलों के लिए मुखबिर होने का आरोप लगाया गया था।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने यूएपीए (गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम) के तहत एक प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। पुलिस सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय खुफिया एजेंसियों के इनपुट के आधार पर खुफिया आकलन से पता चलता है कि मुख्तार बाबा तुर्की से अक्सर पाकिस्तान का दौरा करता हैं और द रेजिस्टेंस फ्रंट (टीआरएफ) के बैनर तले आतंकवाद के लिए घाटी में युवाओं को तैयार करता है और झूठी कहानी प्रचारित करता है। टीआरएफ लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) की एक शाखा।

मूल रूप से श्रीनगर निवासी सज्जाद गुल टीआरएफ के मुख्य गुर्गों में से एक है और धमकी देने में भी शामिल है। एजेंसी ने छह लोगों की पहचान की है जो बाबा के संपर्क में हैं और उन्हें जानकारी प्रदान कर रहे हैं। सूत्रों ने कहा, एजेंसियों ने चार पत्रकारों और दो सरकारी कर्मचारियों सहित छह से अधिक व्यक्तियों की पहचान की है। उन्होंने इनकी संपत्तियों की मैपिंग, उनके दूरसंचार उपयोग और उनकी यात्रा के माध्यम से साक्ष्य एकत्र करने के लिए एक मिशन आधारित ²ष्टिकोण की सिफारिश की है।

मूल रूप से डाउनटाउन श्रीनगर का रहने वाले मुख्तार बाबा तुर्की भागने से पहले श्रीनगर के नौगाम के बाहरी इलाके में शिफ्ट हो गया था। उसने पत्रकारों के भीतर से मुखबिरों का एक नेटवर्क तैयार किया है, जिनके इनपुट के आधार पर वह धमकी देता है। वह 1990 के दशक में आतंकवादी संगठन हिज्बुल्लाह से जुड़ा रहा और हिजबुल्ला से संबंधित एके -47 राइफलों को दूसरे आतंकवादी संगठन को बेचने में शामिल होने के बाद संगठन से बाहर कर दिया गया था।

खुफिया एजेंसियों द्वारा तैयार डोजियर में कहा गया है, इसके बाद वह मसरत आलम के नेतृत्व वाली मुस्लिम लीग से जुड़ा रहा और घाटी में पत्रकारों और मीडिया आउटलेट्स को पाकिस्तानी और आतंकवादी लाइन का समर्थन करने के लिए मजबूर करने के लिए कुख्यात है। सूत्रों ने बताया कि श्रीनगर में कई अलगाववादी संगठनों के साथ सक्रिय रहने के दौरान वह हमेशा पाकिस्तानी एजेंसियों के करीब रहा।

55 वर्षीय मुख्तार बाबा पहले घाटी के चार मीडिया संगठनों में पत्रकार के रूप में काम कर चुका है। वह 1990 में कुछ समय के लिए जम्मू की कोट भलवाल जेल में बंद था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper