पोस्ट ऑफिस की इन स्कीम्स में हो रही धन की वर्षा! यहां जानिए किसमें सबसे ज्यादा मुनाफा

नई दिल्ली. पोस्ट ऑफिस की सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम इस वक्त 7.4 परसेंट का ब्याज दिया जा रहा है. आपका पैसा इस स्कीम में करीब 9.73 साल में डबल होगा.

पोस्ट ऑफिस की 15 साल की पब्लिक प्रोविडेंट फंड पर इस वक्त 7.1 परसेंट का ब्याज मिल रहा है. यानी इस रेट पर आपका पैसा डबल होने में करीब 10.14 साल का वक्त लगेगा.

पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट में अगर आप अपना पैसा रखते हैं तो आपको पैसा डबल होने में लंबा इंतजार करने पड़ सकता है. क्योंकि इसमें 4.0 परसेंट सालाना ही ब्याज मिलता है, यानी आपका पैसा 18 साल में डबल होगा.

पोस्ट ऑफिस रिकरिंग डिपॉजिट पर आपको अभी 5.8 परसेंट ब्याज दिया जा रहा है, ऐसे में इस ब्याज दर से अगर पैसे का निवेश किया जाए तो यह करीब 12.41 साल में डबल होगा.

पोस्ट ऑफिस की 1 साल से लेकर 3 साल तक की टाइम डिपॉजिट पर 5.5 परसेंट का ब्याज मिल रहा है. अगर आप इसमें निवेश करते हैं तो आपका पैसा करीब 13 साल में डबल हो जाएगा. इसी तरह 5 साल के टाइम डिपॉजिट पर आपको 6.7 परसेंट का ब्याज मिल रहा है. इस ब्याज दर से अगर पैसे का निवेश किया जाए तो आपका पैसा करीब 10.75 साल में डबल होगा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper