बॉयफ्रेंड होने के बावजूद महिला ने की रजाई से शादी, पहली नजर में हुआ था प्यार, कहा…

नई दिल्ली। कहते हैं कि प्यार अंधा होता है, वो जाति, धर्म, समुदाय, रंग, उम्र और लिंग नहीं देखता. पर क्या आपने कभी सुना होगा कि कोई इंसान, किसी निर्जीव वस्तु से इस तरह प्यार करने लगे, जैसे वो दूसरे इंसान से करता है? हां ये मुमकिन है और कई बार सुनने को भी मिलता है कि कोई गुड़िया को अपना लाइफ पार्टनर बना लेता है. पर क्या आपने कभी सुना है कि कोई रजाई को अपना पार्टनर बनाकर उससे शादी कर ले. ऐसा एक महिला ने कुछ सालों पहले किया था जिसने हाल ही में बताया कि उसके लिए, उसका पति, सबसे सच्चा साथी है.

डेली स्टार न्यूज वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार इंग्लैंड की पास्केल सेलिक ने साल 2019 में वैलेंटाइन्स डे के मौके पर शादी की थी. हैरानी ये नहीं है कि महिला ने शादी की, पर हैरानी इस बात की है कि उसने किस्से शादी की. एक इंसानी बॉयफ्रेंड होने के बावजूद उसने एक रजाई से शादी की. सिंगल बेड रजाई को वो अपने अकेलेपन का साथी मानती थी और उसने पति के तौर पर, बॉयफ्रेंड की जगह उसे चुना.

हैरानी की बात ये भी है कि जब महिला ने ये विचित्र शादी की थी, तब अपने परिवार और दोस्तों को भी न्योता दिया था. उसका बॉयफ्रेंड तक इस अजीबोगरीब शादी में शामिल हुआ था. महिला ने एक शो को दिए इंटरव्यू में कहा कि उसके पास कई और रजाई भी हैं पर उसे, उसी एक रजाई से सबसे ज्यादा प्यार है. शादी करने के पीछे एक खास मकसद था. वो लोगों को खुद से प्यार करने और खुद की देखभाल करने के लिए जागरूक करना चाहती थी, साथ में ये भी बताना चाहती थी कि खुश रहने के लिए किसी इंसान के साथ रिश्ते में बंधने की जरूरत नहीं है.

महिला ने कहा कि उसके बॉयफ्रेंड जॉनी को इस बात से कोई आपत्ति नहीं है. बॉयफ्रेंस से रजाई शेयर करने की बात पर उसने कहा कि उसकी रजाई सिंगल है पर जब वो बॉयफ्रेंड से शादी करेगी तब डबल बेड की रजाई ले लेगी, हालांकि, अपने पहले पति, यानी रजाई का साथ वो नहीं छोड़ेगी. महिला ने कहा कि उसकी रजाई उसके लिए हर वक्त मौजूद रहती है, जब वो ज्यादा दुखी होती है या खुश होती है. इस संबंध में रोमांस से ज्यादा दोस्ती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper