महिंद्रा थार के माइलेज से हुआ परेशान, खुद ही लगा डाली सीएनजी किट, अब सिर्फ 5 रुपये में…

नई दिल्ली. महिंद्रा थार SUV की भारत में बड़ी फैन फॉलोइंग है. लॉन्चिंग के 2 साल बाद भी इस गाड़ी पर लंबा वेटिंग पीरियड देखने को मिलता है. यह गाड़ी पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन ऑप्शन में आती है. महिंद्रा थार के मोडिफिकेशन और इसके ऑफ–रोडिंग से जुड़े कई वीडियोज आपने देखे होंगे. हालांकि हाल ही में एक ऐसा वीडियो सामने आया जो आपको हैरान कर देगा. दरअसल एक शख्स ने महिंद्रा थार पेट्रोल के माइलेज से परेशान होकर इसमें सीएनजी किट ही लगा डाली.

थार के इस ऑनर का एक्सपीरियंस एक यूट्यूब चैनल ने अपलोड किया है. शख्स ने इस गाड़ी को 1 साल पहले खरीदा था. उन्होंने डीजल की जगह पेट्रोल को इसलिए चुना क्योंकि दिल्ली एनसीआर में पेट्रोल गाड़ी 15 साल तक चल जाती है. शख्स की मानें तो वह अपनी थार को कई रोड ट्रिप्स पर लेकर गया, लेकिन इसके माइलेज के कारण परेशान हो गया.

वीडियो में दावा किया गया है कि महिंद्रा थार पेट्रोल सिर्फ 10 से 11 किलोमीटर तक का माइलेज ही देती है. ऐसे में उन्होंने कार में सीएनजी किट लगाने का फैसला किया. सीएनजी किट के लिए उन्होंने कई ऑनलाइन प्लेटफॉर्म और वर्कशॉप पर बात की, हालांकि निराशा ही हाथ लगी. ऐसे में उन्होंने एक पुरानी सीएनजी किट को खुद ही इस गाड़ी में इंस्टॉल करने का फैसला किया.

फिलहाल वह अपनी थार में सीएनजी किट का ट्रायल कर रहे हैं. अभी तक उन्हें कोई बड़ी समस्या नहीं आई है. उन्होंने बताया कि वह पिछले 1 महीने से इस किट का इस्तेमाल कर रहे हैं और उनका रनिंग कॉस्ट भी 10रुपये से घटकर 5रुपये प्रति किलो मीटर तक पहुंच गया है. टेस्टिंग पूरी हो जाने के बाद वह इस गाड़ी में सीएनजी किट की प्रॉपर फिटिंग करा लेंगे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper