महिलाओं के शरीर पर ये 7 निशान गुड लक का संकेत, होती हैं किस्मत वाली

नई दिल्ली.हर कोई चाहता है कि उसे जीवन के हर मोड़ पर किस्मत का साथ मिले. महिलाओं और पुरुषों, दोनों के शरीर पर कुछ ऐसे निशान या चिह्न होते हैं जिन्हें भाग्यशाली होने का संकेत माना जाता है. आइए जानते हैं शारीरिक और संरचनात्मक बनावट के आधार पर भी गुड लक साइन के बारे में-

1. पैर पर तिल- सामुद्रिक शास्त्र के मुताबिक, यदि किसी महिला के पैर के तलवे पर ट्राएंगल मार्क (त्रिकोण चिह्न) हो तो उसे बुद्धिमान और समझदार बताया जाता है. ऐसा कहा जाता है कि ऐसी महिलाओं हमेशा दूसरीों की मदद के लिए आगे रहती है.

2. नाभि के पास तिल- ऐसा कहा जाता है कि यदि किसी महिला की नाभि के नीचे या आस-पास तिल या मस्सा हो तो वो परिवार के लिए बहुत शुभ होती है. ये निशान ना सिर्फ उन्हें भाग्यवान बनाता है, बल्कि सुख-समृद्धि का संकेत भी देता है.

3. पैर का अंगूठा- ऐसा कहते हैं कि जिस महिला के पैर का अंगूठा लंबा होता है उसे अपने जीवन में बहुत दुख सहने पड़ते हैं. लेकिन अगर महिला का अंगूठा चौड़ा, गोल और लाल हो तो उसे बहुत भाग्यशाली समझा जाता है.

4. तलवे पर तिल- शास्त्रों के मुताबिक, जिन महिलाओं के पैरों के तलवों पर शंख, कमल या चक्र की आकृति बनती है, वे बेहद भाग्यशाली होती हैं. ऐसी महिलाएं या तो किसी बड़े पद पर होती हैं या उनके भाग्य से पार्टनर किसी अच्छी पोजिशन पर होता है.

5. नाक पर तिल या मस्सा- यदि किसी महिला की नाक के इर्द-गिर्द तिल या मस्सा हो तो निसंदेह वे एक गुडलक का रूप होती हैं. इनके जीवन में सुख, शांति और समृद्धि बनी रहती है.

6. जीभ की बनावट- जिन महिलाओं की जीभ बहुत ज्यादा कोमल और गुलाबी होती है उन्हें खुशहाली का प्रतीक समझा जाता है. ऐसी महिलाओं के घर में रहने से परिवार में हमेशा खुशनुमा माहौल बना रहता है.

7. आंखें- हिरण के समान खूबसूरत आंखों वाली महिलाएं भी बेहद भाग्यशाली होती हैं. ऐसी महिलाएं प्यार और खुशियों की सौगात लेकर आती हैं. अगर आंख के कोने का हिस्सा लाल है तो ये महिला के भाग्यवान होने की निशानी है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper