महिला ने ‘किन्नर’ से कराई पति की शादी, फिर लिया हैरान करने वाला फैसला

भुवनेश्वर। ओडिशा के कालाहांडी से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है जहां एक शख्स अपनी पहली पत्नी के रहते हुए किन्नर संग विवाह रचा लिया। इतना ही नहीं पत्नी को इस शादी से कोई आपत्ति भी नहीं हुई। वह किन्नर के साथ एक ही घर में रहने के लिए राजी हो गई है।

दरअसल, एक शख्स को एक साल पहले किन्नर से प्यार हो गया था। जिसके बाद वह अक्सर किन्नर के साथ ही समय बिताता था। कुछ दिन बाद जब पत्नी को पता चला कि दोनों के बीच एक साल से संबंध है तो कुछ देर के लिए वह भी हैरान रह गई। हालांकि पति के काफी मनाने पर वह राजी हो गई और किन्नर से शादी कराने के लिए खुद ट्रांसजेंडरों के मुखिया से संपर्क किया।

क्या है मामला?
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक फकीर नियाल की शादी को पांच साल हो चुके थे। एक दिन उसकी मुलाकात ट्रांसजेंडर से हो गई फिर उसने गुपचुप तरीके से ट्रांसजेंडर संगीता के साथ संबंध बना लिए थे। अफेयर के बारे में जानने के बाद, फकीर की पत्नी ने कलेजे पर पत्थर रखकर बड़ा फैसला लिया।

यह भी पढ़ें | Mathura Case: ज्ञानवापी के बाद अब इन दो अहम मामलों के फैसले पर टिकी नजर, आज होगी सुनवाई
परिवार के सदस्यों को समझाने के बाद, उसने अपने विचार साझा करने के लिए संगीता और अन्य ट्रांसजेंडरों से संपर्क किया। बाद में, वह संगीता को अपने घर ले आई और ट्रांसजेंडर समुदाय के सदस्यों की मौजूदगी में अपने पति से उसकी शादी करा दी।

पत्नी बोली- एक ही छत के नीचे रह लूंगी
वहीं किन्नर को घर लाने के बाद पत्नी एक छत के नीचे रहने के लिए राजी भी हो गई। पत्नी ने कहा कि दोनों बहन की तरह साथ रहेंगे। मेरे पति अगर खुश हैं तो मुझे कोई आपत्ति नहीं है।

पत्नी ने दोनों के सुखी वैवाहिक जीवन की शुभकामनाएं दी
पत्नी से जब इस शादी के बारे में पूछा गया तो उसने कहा कि हम दोनों के सुखी वैवाहिक जीवन के लिए शुभकामनाएं देते हैं। पत्नी ने कहा कि हिंदू मैरिज ऐक्ट के तहत एक पत्नी के रहते हुए कोई पुरुष दूसरा विवाह नहीं कर सकता है। लेकिन यह तो दोनों पार्टनर्स की सहमति का मामला है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper