मां लक्ष्‍मी को प्रसन्‍न करने के लिए ऐसे करें घर की सफाई, होगी पैसों की झमाझम बरसात!

नई दिल्ली. वास्‍तु शास्‍त्र में घर के हर कमरे को सही दिशा में बनाने के साथ-साथ उसमें सामान रखने और उनके सही उपयोग के बारे में भी बताया गया है. इसके साथ-साथ महत्‍वपूर्ण कामों को करने का सही समय भी बताया गया है. ताकि घर में सकारात्‍मक ऊर्जा का संचार बना रहे और नकारात्‍मक ऊर्जा घर में न रहे. इसके लिए सबसे ज्‍यादा जरूरी है कि घर साफ-सुथरा रहे. इतना ही नहीं वास्‍तु शास्‍त्र में घर की साफ-सफाई करने का सही तरीका भी बताया गया है.

ये है घर की सफाई करने का बेस्‍ट तरीका
वास्‍तु शास्‍त्र के अनुसार यदि घर की सफाई की जाए तो मां लक्ष्‍मी प्रसन्‍न होकर घर को धन-धान्‍य से भर देती हैं. घर के लोग अपने कामकाज में खूब तरक्‍की करते हैं, वे ढेर सारा पैसा कमाते हैं. उन्‍हें समाज में मान-सम्‍मान मिलता है. घर में खुशहाली रहती है. आइए जानते हैं सुख-समृद्धि के रास्‍ते खोलने वाले ये तरीके कौनसे हैं.

– घर की साफ-सफाई करते समय ध्‍यान रखें कि घर के मुख्‍य द्वार से लेकर पूरे घर की सफाई करें. क्‍योंकि साफ-सुथरे घर में ही मां लक्ष्‍मी वास करती हैं.

सफाई के साथ-साथ साफ-सफाई के समय का भी ध्‍यान रखें. कभी भी सुबह ब्रह्म मुहूर्त में घर में झाड़ू न लगाएं. इसके अलावा सूर्यास्‍त के समय और इसके बाद घर की सफाई न करें. दरअसल, यह समय मां लक्ष्‍मी के घर में आगमन का होता है, इसलिए इस समय से पहले ही घर में झाड़ू-पोंछा कर लें. यदि मजबूरी में सफाई करनी पड़े तो कभी भी कचरा बाहर न फेंकें.

– घर के हर कोने, फर्नीचर के नीचे और सीधे न दिखने वाली जगहों की भी समय-समय पर सफाई करते रहें. क्‍योंकि कोनों में देव-देवताओं का वास होता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper