मोदी सरकार ने बढ़ाई पूर्व सैनिकों के अनाथ बच्चों के लिए वित्तीय सहायता, अब इसमें तीन गुना की बढ़ोतरी

 

नई दिल्ली । रक्षा मंत्रालय (Defense Ministry) ने पूर्व सैनिकों (Ex-Servicemen) के अनाथ (Orphans ) बच्चों को वित्तीय सहायता को ‘अनाथ अनुदान’ (Orphan Grant) के तहत 1000 रुपये प्रति माह से बढ़ाकर 3000 रुपये प्रति माह कर दिया है। अब रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath singh) ने भी इस बात की पुष्‍टि कर दी है, उन्‍होंने इस संबंध में सोशल मीडिया के माध्‍यम से सभी को बताया है।

उन्‍होंने कहा है कि मुझे भूतपूर्व सैनिक कल्याण कोष की अनाथ अनुदान योजना के तहत भूतपूर्व सैनिकों (ईएसएम) के अनाथ बच्चों को दिए जाने वाले वित्तीय सहायता को 1000 रुपये प्रति माह से बढ़ाकर 3000 रुपये प्रति माह करने की घोषणा करते हुए प्रसन्नता हो रही है । इस फैसले से कई ईएसएम परिवार लाभान्वित होंगे।

उल्‍लेखनीय है कि सरकार की सभी नागरिकों के जीवन को आसान और सम्मानजनक जीवन की नीति के अनुरूप और सशस्त्र सेवाओं के लिए मानवीय इशारे के रूप में पूर्व सैनिकों (ईएसएम) के अनाथ बच्चों को वित्तीय सहायता बढ़ाने को मंजूरी दी है। एक सरकारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि 1000 रुपये प्रति माह से 3000 रुपये प्रति माह। इससे अनाथ बच्चों को सम्मान और सम्मान के साथ बेहतर जीवन जीने में मदद मिलेगी।

बतादें कि केन्द्रीय सैनिक बोर्ड (केएसबी) इस योजना को चलाता है जिसे रक्षा मंत्री भूतपूर्व सैनिक कल्याण कोष (आरएमईडब्ल्यूएफ) द्वारा वित्त पोषित किया जाता है। यह सशस्त्र सेना झंडा दिवस कोष का एक सबसेट है। वर्तमान योजना अनाथ बच्चे के लिए है जो किसी पूर्व सैनिक के बेटे या अविवाहित बेटी के मामले में 21 वर्ष से कम आयु की वैध संतान है। इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदन की अनुशंसा संबंधित जिला सैनिक बोर्ड (ZSB) द्वारा की जाती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper