राजा से रंक बना देंगी ये आदतें, अगर कंगाली से बचना है तो तुरंत बना लें दूरी

 


नई दिल्ली. अठारह पुराणों में से गरुड़ पुराण का महत्व अहम माना जाता है. गरुड़ पुराण में कई बातों का जिक्र मिलता है. इसमें हमारे कर्मों के फल के बारे में विवरण मिलता है. गरुड़ पुराण के अनुसार कुछ आदतें गरीबी की वजह बनती हैं. अगर इन्हें नहीं छोड़ा गया तो आप जल्द ही कंगाली का सामना कर सकते हैं. ऐसे कामों को तुरंत छोड़ देना चाहिए, वरना आया हुआ धन भी वापस लौट सकता है. ऐश्वर्य के साथ जीवन यापन करने वाले लोग गरीब हो सकते हैं. आइए जानते हैं ऐसी कौन सी आदतें हैं जो कंगाली की वजह बनती हैं.

अहंकार करना किसी के लिए अच्छा नहीं है. कहते हैं न कि अहंकार तो राजा रावण का भी नहीं चला था. अहंकार से बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है. अहंकारी व्यक्ति का साथ सभी छोड़ देते हैं. अमीर से अमीर व्यक्ति में अगर अहंकार है तो उसका लंबे वक्त तक सुखी रहना मुश्किल हो सकता है.

लक्ष्मी गंदगी से दूर भागती है. गंदे कपड़े पहनने का मतलब गरीबी को न्यौता देना है. गंदे कपड़े आपकी कंगाली का कारण हो सकते हैं. भलें ही फटे-पुराने कपड़े हों, लेकिन साफ होना चाहिए. कपड़ों के साथ शरीर का भी साफ सुथरा होना जरूरी है. अगर गरीबी से बचना चाहते हैं रोज नहाना-धोना चाहिए.

लालच करना अच्छा नहीं है. लोभी व्यक्ति अक्सर बुरे मार्ग पर चलने लगते हैं. पैसे के लोभ में लोग कई गलत काम करने लगते हैं. ऐसे लोगों के पास धन ज्यादा वक्त तक टिका नहीं रह सकता है. जो पैसों का जितना ज्यादा लालच करता है धन उससे उतना ही दूर भागता है. लालची लोगों के पास सुख नहीं आ पाता है.

दूसरों का शोषण करने वाले कभी सुखी नहीं रहते हैं. अगर आप गरीबों और असहाय लोगों का शोषण करते हैं तो इसका परिणाम बुरा होता है. भलें ही आप उस वक्त किसी का शोषण कर मुनाफा कमा लें, लेकिन ये ज्यादा वक्त तक टिका नहीं रह सकता है. अत्याचारी लोगों से लक्ष्मी नाराज हो जाती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper