रात के वक्त क्यों बनती है पेट में गैस? वजह जानकर पाएं इससे छुटकारा

 


नई दिल्ली. गैस्ट्राइटिस एक ऐसी परेशानी है जिससे काफी लोग परेशान रहते हैं, भारत में ये समस्या बहुत से लोगों को है. आपने अक्सर महसूस किया होगा कि रात में जब सोने जाते हैं तो पेट में गैस या पेट फूलने की प्रॉब्लम शुरू हो जाती है. ऐसे में पूरी रात करवट बदलना पड़ता है ऐसे में नींद भी पूरी नहीं होती. कई लोगों को पेट में जलन बढ़ जाती है. लेकिन क्या कभी सोचा है कि रात के वक्त पेट में गैस आखिर क्यों बनने लगती है.

1. कुछ लोगों को रात में ज्यादा या हेवी खाने की आदत होती है. ऐसे में पेट में तेजी से गैस बनने लगती है. आमतौर पर रात के वक्त पार्टीज, दावत या बाहर डिनर के लिए लोग जाना पसंद करते हैं, ऐसे में ये समस्या और ज्यादा बढ़ जाती हैं. दावत में ऑयली फूड खाने का चलन काफी ज्यादा होता है, जो पेट के लिए अच्छा नहीं है.

2. फूड को डाइजेस्ट करने में हमारी आंतों के बैक्टीरियाज को करीब 6 घंटे लगते हैं. ऐसे में अगर आप डिनर से पहले शाम के स्नैक्स में ज्यादा तेय युक्त चीजें खा रहे हैं तो डिनर के बाद पेट में परेशानी शुरू हो जाएगी. ब्लोटिंग की परेशानी इसी वजह से होती है.

1. रात को खाने के बाद कम से कम 15 से 20 मिनट जरूर वॉक करें, इससे भोजन को आसान से डाइजेस्ट करने में मदद मिलती है.

2. कुछ लोगों को खाना खाने के तुरंत बाद बिस्तर पर लेट जाने की आदत होती है, ऐसे में पाचन में दिक्कतें आती हैं और पेट में गैस बनने लगती है.

3. अगर आप पूरे दिन में 8 से 10 ग्लास पानी नहीं पी रहे हैं तो फूड डाइजेशन में मुश्किलें पैदा होती है, जो गैस्ट्राइटिस को बढ़ाने के लिए जिम्मेदार हैं

4. जो लोग दो मील के बीच ज्यादा गैप नहीं रखते उनको भी ये परेशानी पेश आती है. इसलिए दोपहर और रात के भोजन की टाइमिंग फिक्स कर लें

5. रात के वक्त कभी भी हेवी या ज्यादा ऑयल वाले भोजन न खाएं, क्योंकि ये गैस को बढ़ा देते हैं, बेहतर है कि आप हल्का और ऑयल फ्री डाइट लें.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper