रायगढ़ के तट पर कड़ा पहरा, जानें कैसे महाराष्ट्र पहुंची दुबई से निकली हथियारों से भरी नाव

मुंबई: महाराष्ट्र के रायगढ़ में गुरुवार को हथियारों से भरी नाव मिलने के बाद हड़कंप मच गया था। फिलहाल, सुरक्षा को लेकर कोई ढिलाई नहीं बरती जा रही है। खबर है कि रायगढ़ जिले की बीच पर भारी सुरक्षा बल तैनात है। साथ ही इस घटना से जुड़ी कुछ अहम जानकारियां भी सामने आई हैं। खबर है कि यह नाव आखिरी बार दुबई से रवाना हुई थी। हालांकि, अधिकारियों का कहना है कि इससे सुरक्षा संबंधी कोई खतरा नहीं है। वहीं, राज्य के उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी नाव के बारे में जानकारियां दी थी। फिलहाल, सवाल है कि यह नाव आखिर महाराष्ट्र के तट पर कैसे पहुंची?

रिपोर्ट में शीर्ष खुफिया सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि गुरुवार को मिली नाम मई-जून में दुबई से रवाना हुई थी, जिसमें तीन क्रू मेंबर्स और पांच यात्री सवार थे। 16 मीटर लंबी इस नाव ने 26 जून को ओमान की खाड़ी में मदद की गुहार लगाई थी। इसके बाद 27 जून को कंबाइंड टास्क फोर्स (CTF)-151 के कोरियाई नौसेना के पोत ROKS Dae Jo Yeon ने सभी को बचा लिया था।

रिपोर्ट के अनुसार, सूत्रों ने बताया कि रास्ते मे रस्ता टूट गया, जिसके बाद नाव बह गई। सुरक्षा एजेंसी नेप्च्यून मैरिटाइम सिक्युरिटी ने नाव पर मिले एके हथियारियों के सीरियल नंबर की पुष्टि की है। साथ ही एजेंसी ने बयान भी जारी किया है, ‘अरब सागर में मानसून के दौरान नाव क्षतिग्रस्त हो गई थी, जिसके चलते कैप्टन को आपातकाल घोषित करना पड़ा। क्रू को बचाते समय मौसम की गंभीर परिस्थितियों के चलते नाव को नहीं बचाया जा सका। इस सुबह नेप्च्यून ग्रुप को जानकारी दी गई कि जिस नाव को डूबा हुआ मान लिया गया था, वह भारतीय तटों पर मिली है।’

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper