राशन कार्ड रखने वालों के लिए बड़ी खबर, इन लोगों को नहीं मिलेगा राशन, देखिये इसमें आपका कार्ड तो नहीं

नई दिल्ली. राशन कार्ड धारकों के लिए बड़ी खबर है. केंद्र सरकार ने कोरोना काल में लाभार्थियों के लिए फ्री राशन की सुविधा शुरू की थी, जिसका देश के करोड़ों लोगों ने फायदा उठाया है, लेकिन पिछले कुछ समय से सामने आ रहा है कि देश के कई अपात्र लोगों ने भी इस सुविधा का फायदा लिया है. आज हम आपको कुछ ऐसी स्थितियों के बारे में जिनमें आपका राशन कार्ड रद्द हो सकता है.

अगर आपने गलत तरीके से राशन कार्ड बनवाया है और उससे सरकारी योजनाओं का फायदा ले रहा है तो ऐसे में शिकायत होने पर आपके खिलाफ कार्रवाई हो सकती है.यद‍ि क‍िसी कार्ड धारक के पास खुद की आय से अर्ज‍ित 100 वर्ग मीटर का प्‍लाट/ फ्लैट या मकान, चार पहिया गाड़ी / ट्रैक्टर, शस्त्र लाइसेंस, गांव में दो लाख और शहर में तीन लाख सालाना से अधिक पार‍िवार‍िक आय है तो ऐसे लोगों को अपना राशन कार्ड तहसील और डीएसओ कार्यालय में सरेंडर करना होगा.

सरकार के न‍ियमानुसार यद‍ि राशन कार्ड धारक कार्ड को सरेंडर नहीं करता है तो ऐसे लोगों का कार्ड जांच के बाद रद्द कर द‍िया जाएगा. साथ ही उस परिवार के ख‍िलाफ कानूनी कार्रवाई भी हो सकती है. इतना ही नहीं ऐसे लोगों से जब से वह राशन ले रहा है, तब से राशन की वसूली भी की जाएगी.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper