लकी लोगों की हथेली में होती है ‘शनि रेखा’, कमाते हैं अकूत धन! क्‍या आपके हाथ में है?

नई दिल्ली. हस्तरेखा विज्ञान में हथेली की रेखाओं, आकृतियों, चिन्‍हों, पर्वतों के जरिए भविष्‍य के बारे में बताया जाता है. ये चीजें व्‍यक्ति की पर्सनालिटी के बारे में भी ढेरों बातें बताती हैं. ज्‍योतिष की तरह हस्‍तरेखा शास्‍त्र में भी शनि को बहुत महत्‍व दिया गया है. हाथ में शनि रेखा और शनि पर्वत की स्थिति बहुत मायने रखती है. हालांकि शनि रेखा कम ही लोगों के हाथ में होती है, लेकिन जिन लोगों के हाथ में शनि रेखा होती है उनकी किस्मत चमक जाती है. यह रेखा जातक को धन-दौलत, कामयाबी, लोकप्रियता आदि सब कुछ देती है. इसलिए इसे भाग्‍य रेखा भी कहते हैं.

हाथ में शनि रेखा कहां होती है?
हाथ में शनि रेखा हाथ की कलाई या उसके पास से शुरू होकर मध्‍यमा उंगली के नीचे स्थित शनि पर्वत तक जाती है. जिन लोगों के हाथ में यह रेखा स्‍पष्‍ट, गहरी और बिना कटी-फटी हो, वह बेहद भाग्‍यवान होता है.

ऐसी शनि रेखा बनाती है अमीर
– यदि कलाई के ऊपरी हिस्‍से से शनि रेखा शुरू होकर शनि पर्वत तक जाए तो ऐसी शनि रेखा (भाग्‍य रेखा) बेहद शुभ होती है. ऐसे लोग अपार धन कमाते हैं. कम उम्र में ही इन लोगों के पास अच्‍छा-खासा बैंक बैलेंस होता है. साथ ही ये लोग अपने दम पर अपनी पहचान बनाते हैं.

– जिन लोगों के हाथ में शनि रेखा या भाग्‍य रेखा, जीवन रेखा से निकलकर शनि पर्वत तक जाए तो वे भी अपने जीवन में अपार धन-दौलत कमाते हैं. आमतौर पर ऐसे लोग जीवन के दूसरे पड़ाव में अमीर बनते हैं

– यदि कोई रेखा गुरु पर्वत से निकलकर शनि पर्वत तक जाए तो ऐसे लोग भी जीवन में खूब सफलता पाते हैं और नाम-पैसा कमाते हैं. ये लोग लग्‍जरी लाइफ जीते हैं.

– यदि शनि रेखा कटी-फटी हो तो भी हाथ में इस रेखा का होना अच्‍छा माना जाता है लेकिन ऐसे जातकों को इसका पूरा फल नहीं मिलता है. लिहाजा उनके करियर, आर्थिक स्थिति में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper