शरीर के इस भाग पर तेल लगाने से शनि बनाते हैं मालामाल, पढ़े पूरी खबर

 


नई दिल्ली शनिवार का दिन शनि महाराज को समर्पित है। शनि से जुड़े कई उपाय और बहुत सारी धारणाएं समाज में प्रचलित हैं। कहा जाता है की शनि कर्मफल प्रदाता हैं। जिस प्रकार का कर्म व्यक्ति करता है, वैसा ही फल भोगना पड़ता है। शनि ग्रह आपके घुटनों और पैरों के कारक ग्रह हैं। जिन भी जातकों के घुटने दर्द होते हैं या पैरों से संबंधित समस्याएं आती हैं, उनका सीधा-सीधा कनेक्शन शनि ग्रह से है। धन से संबंधित समस्याएं भी शनि की शुभता प्राप्त करने से सुलझ जाती हैं।

इस तथ्य की पुष्टि के लिए आपको बता दें की कालपुरुष की कुंडली में दसवां और 11 वां भाव यानी की कर्म और लाभ का स्वामी ग्रह शनि ही है। दसवां और 11 वां भाव आपके पैर, टखने और घुटनों से संबंधित है। तो मान लें की शरीर के ये अंग शनि की शुभता बढ़ने से अच्छे असर देना आरंभ कर देते हैं।

सरसों का तेल जो की शनि का ही कारक ग्रह है, घुटनों पर लगाने से पैरों संबंधित समस्या में लाभ और व्यापार में वृद्धि प्राप्त की जा सकती है। ये एक अचूक उपाय है।

श्रम दान यानी सेवा करने से भी दसवां भाव मजबूत होता है। जिससे कि व्यापार में सफलता और धन लाभ मिलता है। रात्रि के समय पैरों पर नारियल या चंदन का तेल लगाने से बहुत सारे आर्थिक लाभ मिलते हैं। धन और ऐश्वर्य से जुड़ा हर सुख मिलता है।

रात के समय पैरों के तलवों पर गुलाब का इत्र लगाकर सोने से शुक्र ग्रह भी मजबूत होता है। जिससे की आर्थिक संपन्नता और लग्जरी की वस्तुएं प्राप्त होती हैं।

जिन जातकों को व्यापार से संबंधित किसी भी तरह की समस्या चल रही है, उन्हें शनि चालीसा या शनि स्त्रोत का जाप करते रहना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper