सावधान! इन मोबाइल App से लगातार बढ़ रही ठगी की वारदात

मोबाइल गेमिंग ऐप के जरिए हुई आर्थिक धोखाधड़ी के केस सुनने के लिए मिला है जहां ईडी के हाथ नए तथ्य लगे हैं। केंद्रीय जांच एजेंसी को पता चला है कि ‘ई-नगेट्स’ के साथ साथ दो और मोबाइल गेमिंग ऐप के माध्यम से लोगों को ठगा जाता था। इन मोबाइल गेमिंग ऐप का 197 बैंक खातों से लिंक है, इनके माध्यम से लेन-देन होता था। गौरतलब है कि ED ने इस केस में गत शनिवार को कोलकाता के गार्डेनरीच इलाके में निसार खान नामक ट्रांसपोर्ट कारोबारी के घर छापामारी कर वहां से 17 करोड़ रुपये से अधिक की नकदी जब्त कर ली है।

पांच बैंक खाते में 86 करोड़ रुपये जमा: खबरों का कहना है कि निसार का बेटा आमिर खान केस में मुख्य आरोपित है। उसी ने यह मोबाइल गेमिंग ऐप भी शुरू कर दिया हुआ है। छापामारी के बाद से वह फरार है। आमिर को तलाश रही ईडी आतिफ खान नामक व्यक्ति से पूछताछ कर रही है, जो इस परिवार का बेहद करीबी कहा जा रहा है।

मोबाइल गेमिंग ऐप काली कारोबार को सफेद करने के लिए उसे निसार खान के ट्रांसपोर्ट कारोबार में लगाया जाता था या नहीं, इसका भी पता लगाया जा रहा है। ईडी को कार्रवाई में पता चला है कि भिन्न राज्यों के बहुत से लोगों के बैंक खाते को रुपये देकर किराये पर लिया गया था। प्राथमिक तौर पर ऐसे पांच बैंक खातों का पता चल चुका है, जिनमें करीब 86 करोड़ रुपये जमा हैं। जिन लोगों के नाम से ये बैंक खाते हैं, उनके बारे में भी जानकारी जुटाई जा रही है।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper