सुबह उठने के बाद कमर में होता है तेज दर्द तो इन तरीकों से होगा दूर, यहां देखे…

समय के साथ-साथ लोगों की लाइफस्टाइल में काफी बदलाव आ गया है. इस वजह से लोगों को कई तरह की परेशानियां होती हैं. इन समस्‍याओं में से एक है सुबह उठते से ही कमर दर्द होना. कमर का दर्द काफी सामान्य है, लेकिन अगर सुबह के समय कमर में दर्द होता है तो वो काफी दर्दनाक रहता है. सुबह उठते ही कमर में दर्द होता है तो दिन भर खराब हो जाता है. इस वजह से कई परेशानी होती है. इस दर्द के कई कारण हो सकते हैं. जिसमे से एक है बढ़ती उम्र. दरअसल, जब उम्र बढ़ती है तो उसके साथ हड्डियों का घनत्व कम होने लगता है, जिस वजह से कमर दर्द की समस्‍या शुरू हो जाती है. इसके अलावा भी सुबह के समय कमर दर्द होने की कई वजह हो सकती है, तो चलिए जान लीजिए ये समस्‍या क्‍यों होती है, इससे कैसे छुटकारा पाया जा सकता है.

गलत करवट लेने की वजह से या फिर एक ही करवट में सोने की वजह से भी कमर दर्द करती है. अगर आप एक ही करवट में सोते हैं तो इस आदत को बदल दीजिए. इसके लिए आप रात के समय में कम से कम 4 से 5 बार करवट लें. इससे आपको कमर दर्द में आराम मिलेगा.

कमर दर्द होने की वजह ऑस्‍टि‍योपोरोस‍िस भी हो सकती है. यह ऐसी स्थिति है जिसमें हड्डियां धीरे-धीरे कमजोर होती हैं. अगर ऑस्‍टि‍योपोरोस‍िस की बीमारी है तो आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

स्‍ल‍िप ड‍िस्‍क में गड़बड़ी होने की वजह से भी सुबह-सुबह उठने के बाद कमर में दर्द होता है. अगर आप इस तरह की समस्या से जूझ रहे हैं तो आपको एक्सपर्ट से सलाह लेना चाहिए.

जब शरीर में कैल्‍श‍ियम की कमी हो जाती है तो भी सुबह उठने के बाद कमर में दर्द होता है. अगर आप इस तरह के दर्द से परेशान रहते हैं तो आपको एक्सपर्ट से तुरंत सलाह लेना चाहिए.

अगर आपको कोई इन्फेक्शन, डिस्क की प्रॉब्लम या गठिया नहीं है यानी कि दर्द का कारण केवल कमजोर मांसपेशियां हैं तो ऐसे में सिंपल एक्सरसाइज की जा सकती है. इसके लिए आप 3 योग आसन कर सकते हैं. पवनमुक्तासन, बंधासन, भुजंगासन या नौकासन.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper