सैंडल लेकर नहीं आया दूल्हा तो दुल्हन ने ससुराल जाने से किया मना, जमकर हुआ हंगामा और…

नई दिल्ली। आपने अक्सर यह सुना होगा कि दुल्हन के द्वार पर पहुंचे दूल्हे को मन मुताबिक सामान नहीं मिले तो वह बारात लेकर वापस लौट गया. हालांकि, उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है, जिसमें एक दुल्हन सिर्फ इस बात पर नाराज हो गई क्योंकि दूल्हा उसके लिए सैंडल लेकर नहीं आया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, यह मामला आगरा जिले के खेरागढ़ क्षेत्र स्थित नगला गांव का है, जहां दूल्हे को अपनी बारात लेकर वापस लौटना पड़ा. बारात लौटने से पहले पंचायत ही नहीं बल्कि पुलिस भी मामले को सुलझाने की पुरजोर कोशिश की, लेकिन वे भी दुल्हन को मनाने में कामयाब नहीं हो सके. दूल्हा अपमानित होकर बारात के साथ वापस लौट गया.

देवोत्थान एकादशी के दिन जोधापुरा ढाढकी गांव में सामूहिक विवाह का आयोजन हुआ. इस दौरान कई जोड़ियों की शादी हुई, लेकिन एक जोड़ी को उदास होकर अपने घर लौटना पड़ा. दरअसल, धौलपुर के मनियां कस्बे से आई बारात का विवाह संपन्न होने के बाद विदाई होनी थी, लेकिन दुल्हन ने विदा होने से इस वजह से इनकार कर दिया क्योंकि दूल्हा उसके लिए सैंडल लेकर नहीं पहुंचा था. इस पर दूल्हे पक्ष के लोगों ने पुलिस को बुलाया और मामले में हस्तक्षेप करने के लिए कहा. पुलिस ने काफी देर तक समझाने का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी. फिर ग्राम पंचायत के लोग आए और मामले को सुलझाने की कोशिश की.

दुल्हन पक्ष के लोगों का आरोप है कि बाराती शराब के नशे में आए थे और बदतमीजी कर रहे थे. कई लोगों ने यह भी बताया कि दूल्हे को मिर्गी भी आ गई थी. अगले दिन सुबह दूल्हा और दुल्हन पक्ष के लोगों के बीच पंचायत भी हुई लेकिन कुछ नतीजा नहीं निकला. दुल्हन के हट के आगे सभी पस्त हो गए और आखिर में दूल्हे को परिवार व नाते रिश्तेदार समेत वापस घर जाना पड़ा. दूल्हे ने जानबूझकर शादी को तोड़ने का आरोप लगाया. फिलहाल, इस मामले में पुलिस को किसी भी प्रकार की लिखित शिकायत नहीं मिली. बिना शादी के ही दूल्हे को लौटना पड़ा.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper