हरियाणा और दिल्ली-NCR में दवा कंपनी पर आयकर विभाग का छापा, 4 2 करोड़ रुपये नकद और 4 करोड़ के आभूषण जब्त

नई दिल्ली: आयकर विभाग ने एक दवा निर्माता एवं वितरक के हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर स्थित 25 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी की, जिसमें 4.2 करोड़ रुपये नकद तथा चार करोड़ मूल्य के आभूषण जब्त किए गए हैं। विभाग ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा कि गत 29 जून को यह छापेमारी की गई थी। संबंधित कंपनी न सिर्फ दवा बनाती और वितरण करती है बल्कि रियल एस्टेट में भी कार्यरत है। समूह की पहचान जाहिर नहीं की गई है।

जांच दौरान पता चला है कि कंपनी ने अफगानिस्तान को दवा की आपूर्ति की और बदले में हवाला के माध्यम से नकद में भुगतान स्वीकार किया। इस लेन-देन में शामिल प्रमुख व्यक्ति ने इस बात को स्वीकार किया है। इस माध्यम से करीब 25 करोड़ रुपये के भुगतान स्वीकार किए जाने के रसीदें भी मिली हैं। कंपनी के दवा निर्माण के लिए 94 करोड़ रुपये के अतिशेष रसायन भी मिला है। जांच में यह भी पता चला है कि नकदी में दवा बेचने से मिली राशि का इस्तेमाल अचल संपत्ति की खरीद में किया जाता रहा है। नकद राशि का इस्तेमाल कंपनी के विस्तार पर भी किया गया है।

इतना हीं नहीं, कंपनी की रियल एस्टेट इकाई ने भी बगैर हिसाब-किताब के संपत्ति बेची हैं और नकद में खरीद की हैं। कंपनी ने शेयर बाजार में शॉर्ट टर्म निवेश से करीब 20 करोड़ रुपये का नुकसान भी दिखाया है। यह भी पता चला है कि इस समूह ने हिमाचल प्रदेश में अचल संपत्ति की खरीद के लिए बेनामी कंपनी भी बनाई हुई है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper