हर काम के बीच में आती है अड़चनें, तो जानें कौन-सा दिन किस कार्य के लिए होता है शुभ

कभी-कभी ऐसा होता है कि हम कितना भी प्रयास क्यों न कर लें, लेकिन हमारे काम बिगड़ने लगते हैं।शादी, कॅरियर आदि जरुरी कामों का बिगड़ने का असर हमारे जीवन पर पड़ने लगता है और हम डिप्रेशन का शिकार होते जाते हैं, ऐसे में बहुत जरुरी है कि अपने प्रयासों के अलावा हम वास्तुशास्त्र के हिसाब से कुछ बातों पर भी ध्यान दें।आज हम आपको बता रहे हैं कि किसी भी कार्य के लिए कौन-सा दिन सबसे ज्यादा शुभ रहता है।

श्रृंगार या घरेलू सामान खरीदने के लिए सोमवार का दिन होता है शुभ
आपको अगर साज-श्रृंगार का सामान खरीदना है, तो आपके लिए सोमवार का दिन शुभ रहेगा।साथ ही आप सोमवार के दिन घरेलू सामान भी खरीद सकते हैं।

नए कार्य को शुरु करने के लिए मंगल है मंगलवार
किसी भी नए काम जैसे व्यापार, जॉब, सेना में भर्ती आदि के लिए मंगलवार का दिन शुभ होता है।आप औजार या शस्त्रों से जुड़ा हुआ कोई कारोबार भी इस दिन शुरू कर सकते हैं।

विवाह और प्रेम प्रसंग के लिए बुधवार का दिन
अगर आप किसी से अपनी दिल की बात कहना चाहते हैं, तो बुधवार का दिन आजमा सकते हैं।इसके अलावा विवाह की बात बनते-बनते बिगड़ जाती है, तो आप बुधवार के दिन शादी-विवाह की बात आगे बढ़ा सकते हैं।

अध्ययन-अध्यापन के लिए गुरुवार
अगर आप पढ़ाई-लिखाई, कोचिंग सेंटर, स्क्रिप्ट आदि का काम करना चाहते हैं, तो इससे लिए आपको गुरुवार का दिन चुनना चाहिए।

गीत-संगीत के लिए शुक्रवार
आप अपना कॅरियर गीत-संगीत या किसी संगीत कार्यक्रम का आयोजन करना चाहते हैं, तो आप शुक्रवार का दिन चुन सकते हैं।

गृह प्रवेश के लिए रखें शनिवार
आप अगर नए घर में शिफ्ट होने जा रहे हैं, तो शनिवार का दिन चुनना चाहिए।ज्यादातर लोगों का मानना होता है कि शनिवार का दिन गृह प्रवेश के लिए अच्छा नहीं होता लेकिन आपको इन बातों पर ध्यान नहीं देते हुए, शनिवार का दिन चुनना चाहिए।

पूजन-कार्यों के लिए फलदायी रविवार
आप अगर घर में पूजन-कार्य का आयोजन कर रहे हैं, तो इस दिन का चयन करें।साथ ही आप किसी से मुलाकात के लिए भी इस दिन को चुन सकते हैं।रविवार के दिन मुलाकात करने पर आपसी प्रेम और भाईचारा बना रहता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper