हर घर को सोलर से रौशन करना हेलिओसिनर्जी का लक्ष्य

रायपुर: भारत की अग्रणी सोलर निर्माता व सॉफ्टवेयर बेस्ड सलूशन कंपनी हेलिओसिनर्जी प्रा. लिमिटेड के फाउंडर व सीएक्सओ कृतिक गौर ने रायपुर विजिट पर मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए भारत में सोलर पावर को घर घर तक पहुंचाने की बात कही। उन्होंने किसी भी बिज़नेस में पैसे से अधिक प्लानिंग को महत्व देते हुए कहा कि, “हमारा लक्ष्य पैसे के पीछे भागना नहीं, बल्कि गांव कस्बे के उस प्रत्येक घर को सोलर पावर से रौशन करना है। हम ऐसे लोगों तक अपनी पहुंच बनाना चाहते हैं जो बहुत अधिक बिजली का रेट वहां नहीं कर सकते, इनमें छोटे दुनकानदार से लेकर एक कमरे के माकन में रहने वाले लोग भी शामिल हैं।”

इस दौरान कंपनी के एमडी निखिल यादव ने कहा कि, हम 2030 तक लक्ष्य लेकर केंद्र सरकार की सोलर पहल को आगे बढ़ने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। कंपनी का लक्ष्य 2030 तक धरातल पर 20GW और रूफटॉप माउंटिंग के निर्माण के लिए 5GW एनर्जी पर काम करना है। छत्तीसगढ़ के लिए हम पीएम मोदी के भारत में सौर ऊर्जा के सपने और पीएम के 480GW लक्ष्य में योगदान पर चर्चा करना चाहते हैं।

हेलिओसिनर्जी प्रा. लिमिटेड एक ऊर्जा तकनीक और नवाचार कंपनी है जो सॉफ्टवेयर संचालित ऊर्जा समाधान का निर्माण करती है जो सौर उत्पादन यानी माइक्रो इनवर्टर बैटरी स्टोरेज मॉड्यूल, वेब संचालित निगरानी नियंत्रण और बड़े पैमाने पर सौर परियोजनाओं को ईपीसी ठेकेदारों के रूप में संचालित करती है जिसे इंडियन सोलर एक्ट की मदद करने के लिए प्रोजेक्ट किया गया है। कंपनी में जूनियर वैज्ञानिक, IIT, MBA विशेषज्ञ और वैश्विक दिग्गज शामिल हैं।

2017-18 में सौर ग्रह के रूप में परीक्षण फर्म की स्थापना के बाद, हेलियोसिनर्जी ने 2018-19 में पहली परियोजना के साथ सोलर मार्केट में कदम रखा और एक अग्रणी प्लेयर के रूप में उभर कर आये हैं। कंपनी का दावा है कि उनके द्वारा बेचे जाने वाले प्रत्येक सौर पैनल और इन्वर्टर के साथ, भारत एक स्थायी भविष्य के करीब बढ़ रहा है, इसलिए कंपनी लगातार लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए अपनी टीम में जरुरी मूल्यों को प्रेरित करने का प्रयास कर रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper