150 फीट गहरी खाई में गिरे भारतीय किशोर की Apple Watch ने बचाई जान, जानें कैसे हुआ ‘चमत्कार’

नई दिल्ली: ऐसी ढेरों कहानियां सुनने को मिलती हैं, जब Apple Watch की वजह से यूजर्स की जान बचाई गई है। इस बार एक भारतीय किशोर के भाग्य और ऐपल वॉच ने उसका साथ दिया और उसे करीब 150 फीट गहरी खाई से सुरक्षित निकाला जा सका। गहरी घाटी में गिरने और गंभीरे चोटें लगने के बाद इस युवक ने Apple Watch Series 7 की मदद से परिवार और दोस्तों को मदद के लिए बुलाया।

स्मित मेहता नाम का यह किशोर हाइकिंग के लिए गया था, जहां वह फिसलकर खाई में गिर गया और उसका iPhone भी छिटककर खो गया। राहत की बात यह थी कि स्मित ने ऐपल वॉच पहन रखी थी, जिसकी मदद से वह दूसरों से कॉन्टैक्ट कर पाए और उन्हें अपनी लोकेशन बताने में सफल रहे। ऐपल वॉच ना होने की स्थिति में उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ सकता था, जो उनके लिए जानलेवा साबित होता।

स्मित ने ऐपल CEO को बताई अपनी कहानी
हादसे से उबरने के बाद स्मित ने ऐपल CEO टिम कुक को ईमेल भेजकर बताया कि कैसे ऐपल प्रोडक्ट की वजह से वह आज सुरक्षित हैं। उनके ईमेल के जवाब में टिम कुक ने भी प्रतिक्रिया दी है और अपनी कहानी शेयर करने के लिए स्मित को धन्यवाद दिया है। टिम पहले भी ऐपल वॉच की लाइफ-सेविंग क्षमताओं का जिक्र अपनी प्रेजेंटेशन के दौरान कर चुके हैं। नए अपडेट्स के साथ इसमें नए SOS फीचर्स भी दिए गए हैं।

अपने दोस्तों के साथ हाइकिंग पर थे स्मित
महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई से करीब 80 किलोमीटर दूर लोनावाला में रहने वाले स्मित अपने दोस्तों के साथ हाइकिंग पर गए थे। बारिश के चलते वापस लौटते वक्त उनका पैर फिसल गया और वह गहरी खाई में गिर गए। एक बड़े पत्थर और पेड़ में फंसने के चलते वह बच गए लेकिन उनके पैर फ्रैक्चर हुआ। तेज दर्द और हादसे की स्थिति में ऐपल वॉच का साथ होना उनके लिए राहत साबित हुआ और उनतक फौरन मदद पहुंचाई गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper