1500 साल में हिंदू नववर्ष की शुरुआत पर बना अत‍ि दुर्लभ योग, जानें आपके जीवन पर असर

नई दिल्‍ली: हिंदू नववर्ष चैत्र मास के शुक्‍ल पक्ष की प्रतिपदा से शुरू होता है. इस साल यह तिथि 2 अप्रैल 2022, शनिवार को है. इसी दिन से नवरात्रि शुरू होती हैं. हर हिंदू नववर्ष का अपना राजा, मंत्री और मंत्रिमंडल होता है. इस बार हिंदू नववर्ष संवत 2079 की शुरूआत ऐसे दुर्लभ संयोग में हो रही है, जो कि डेढ़ हजार साल में बना है.

शनि होंगे नव वर्ष के राजा
हिंदू पंचांग के अनुसार इस नववर्ष के राजा शनि और मंत्री गुरु होंगे. जब शनि राजा और गुरु मंत्री होते हैं तो देश में उत्पात और अव्यवस्था बढ़ती है. साथ ही धार्मिक कार्य बढ़ते हैं और शिक्षा का स्‍तर ऊपर उठता है.

1500 साल बाद बना अति दुर्लभ संयोग
इस बार हिंदु नववर्ष की शुरुआत के मौके पर ग्रह-नक्षत्रों की स्थिति न केवल रोचक बल्कि अति दुर्लभ रहेगी. ऐसी स्थितियां 1500 साल बाद बन रही हैं. नववर्ष की शुरुआत के मौके पर रेवती नक्षत्र और 3 राजयोग बन रहे हैं. इसके अलावा नए साल की शुरुआत के मौके पर मंगल अपनी उच्च राशि यानी मकर में, राहु-केतु भी अपनी उच्च राशि (वृषभ और वृश्चिक) में रहेंगे. वहीं शनि अपनी ही राशि मकर में रहेंगे. इस कारण हिंदू नववर्ष की कुंडली में शनि-मंगल की युति होने का शुभ योग बन रहा है. ज्‍योतिषाचार्यों के मुताबिक हिंदू नववर्ष के मौके पर ग्रहों का ऐसा शुभ संयोग करीब 1500 साल बाद बन रहा है. इससे पहले यह दुर्लभ योग 22 मार्च 459 को बना था.

इन राशि वालों को होगा फायदा
हिंदू नववर्ष पर बन रहे दुर्लभ योग का फायदा मिथुन, तुला और धनु राशि वाले लोगों को मिल सकता है. इन लोगों को यह योग पैसा और तरक्‍की दिलाएगा. उन्‍हें कोई अच्‍छी खबर भी मिल सकती है. निवेश से अच्‍छा फल मिलेगा. वहीं देश के लिहाज से बात करें तो इस साल लोगों के कल्याण के लिए योजनाएं बनेंगी और उन पर काम भी होगा. कई लोगों के लिए यह साल जीवन में बड़े बदलाव लाने वाला साल साबित हो सकता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper