2,000 रुपये के नोट को लेकर RBI ने दी बड़ी जानकारी, आप भी जान लें ये जरूरी बात

नई दिल्ली : देशभर भर में डिजिटल पेमेंट (Digital payment) ने काफी रफ्तार पकड़ ली हैं। डिजिटल पेमेंट लोगों के लिए काफी सुविधाजनक बन गई है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने 8 नवंबर 2016 को 500 और 1000 रुपये के नोटों को बंद कर दिया था। इसके बदले 2,000 के नोट और 500 के नए नोट को जारी किया था। जिसके बाद से मार्केट में 2,000 के नोट खूब देखने को मिले थे और उस समय तो हर किसी को 2,000 के नोट को पाने की चाह थी।

अब 2,000 रुपये के नोट को लेकर बड़ी बात सामने आ रही है। दरअसल, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानी RBI ने इसको लेकर बड़ी बात बताई है। RBI के मुताबिक पिछले तीन साल से 2,000 रुपये का एक भी नोट छापा ही नहीं गया है। जी हां, आपने सही सुना। जिसकी वजह से 2,000 रुपये के नोट का सर्कुलेशन बहुत काम हो गया है। या फिर यूं कहें की इसका सर्कुलेशन लगभग नहीं के बराबार है।

31 मार्च 2022 तक देशभर में सर्कुलेशन में 2,000 रुपये के नोटों की हिस्सेदारी सिर्फ 13.8 फीसदी रह गई है। गौरतलब है कि मार्केट में भी अब 2,000 के नोटों की संख्या बहुत ही कम दिखाई देती है। हालांकि, आजकल लोग डिजिटल पेमेंट का इस्तेमाल भी खूब कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper