89 साल का बुजुर्ग पति बार-बार करता है सेक्स की डिमांड, तंग आकर पत्नी ने जो किया..

वडोदरा. गुजरात की 181 अभयम हेल्पलाइन में एक ऐसा केस आया जिसे सुनकर हर कोई हैरान रह गया। महिलाओं की समस्याएं सुलझाने वाली इस हेल्पलाइन नंबर पर एक 87 साल की बुजुर्ग और बीमार महिला ने कॉल लगाई। बुजुर्ग महिला ने अपने 89 साल के हाइपरसेक्सुअल पति से छुटकारा पाने में मदद मांगी। आरोप है कि बुजुर्ग पति अपनी पत्नी से बार-बार संबंध बनाने की मांग करता है लेकिन बीमार पत्नी उसकी यह इच्छा पूरी करने में असमर्थ है।

अभयम हेल्पलाइन के अधिकारी ने बताया, ‘दोनों के बीच कई सालों तक हेल्दी रिलेशनशिप रहा है लेकिन महिला एक साल पहले बीमार पड़ गई और बिस्तर से उठने में सक्षम नहीं है। वह मुश्किल से ही हिल सकती हैं और बेटे- बहू की मदद से चल पाती हैं।’ अधिकारी ने बताया कि आरोपी पति अपनी पत्नी की स्थिति को भलीभांति जानता है फिर भी शारीरिक संबंध के लिए दवाब बनाता है।

इच्छा न पूरी होने पर पत्नी पर चिल्लाता है शख्स
पत्नी के इनकार करने पर रिटायर्ड इंजीनियर पति झगड़ा करता है और पत्नी और बेटे पर चिल्लाता है जिससे पड़ोसियों को भी बात पता चल जाती है। पिता के उत्पीड़न से परेशान होकर परिवार ने अभयम से मदद मांगी।

अभयम के अधिकारी ने बताया, ‘हमें दो दिन पहले कॉल आई जिसके बाद हम फौरन उनके घर पहुंचे और शख्स से मिले। हमने उनसे कहा कि आपकी छवि धूमिल हो रही है और आपकी पत्नी भी परेशान हैं।’

अभयम टीम ने काउंसलिंग की
अभयम टीम ने आरोपी पति की काउंसलिंग की और अपना ध्यान दूसरी चीजों पर डायवर्ट करने के साथ योगा और सीनियर क्लब जॉइन करने का आग्रह किया। अभयम अधिकारियों ने परिवार के सदस्यों से उन्हें और काउंसलिंग सेशन कराने और सेक्सॉलजिस्ट के पास ले जाने का सुझाव दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper