PM Kisan Yojna: नहीं मिली पीएम किसान योजना की क़िस्त तो इन नंबरों पर करें शिकायत, तुरंत मिलेगा पैसा

PM Kisan Yojana: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Modi) ने पीएम किसान योजना (PM Kisan Yojna) के तहत किसानों के खाते में 11वीं किश्त 2000 रुपये 31 मई को ट्रांसफर कर दी है। तीन दिन बीत जाने के बाद भी कई किसानों के खाते में पैसा नहीं आया है। वह इस बात को लेकर परेशान है कि उनके खाते में किश्त क्यूं नहीं आई है। अपनी समस्या का समाधान करने के लिए आप इन मोबाइल नबंर और हेल्पलाइन नंबर पर फोन कर सकते हैं।

शिमला में आयोजित था कार्यक्रम

बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने 31 मई को शिमला में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान किसानों के खातों में 2000-2000 रुपए की 11वीं किश्त ट्रांसफर (PM Kisan Samman Nidhi) की थी। देश के 10 करोड़ किसानों के खातों में कुल 21,000 करोड़ रुपए भेजे गए। अगर आज भी आपके खाते में पैसा नहीं आया तो आप इन नंबरों पर शिकायत कर सकते हैं।

रजिस्टर्ड किसान इन नंबरों पर कर सकते हैं शिकायत

कई लोगों का नाम पिछली लिस्ट में था, लेकिन नई लिस्ट में नहीं है। पिछली बार पैसा आया लेकिन इस बार नहीं आया, तो इसकी शिकायत आप पीएम किसान सम्मान के हेल्पलाइन नंबर पर दर्ज करा सकते हैं। इसके लिए आप हेल्पलाइन नंबर 011-24300606 पर कॉल कर सकते हैं।

मंत्रालय से ऐसे करें संपर्क

पीएम किसान टोल फ्री नंबर: 18001155266
पीएम किसान हेल्पलाइन नंबर:155261
पीएम किसान लैंडलाइन नंबर्स: 011—23381092, 23382401
पीएम किसान की नई हेल्पलाइन: 011-24300606
पीएम किसान की एक और हेल्पलाइन है: 0120-6025109
ई-मेल आईडी: pmkisan-ict@gov.in
पीएम किसान सम्मान निधि (PM Kisan Samman Nidhi Yojna) स्कीम के तहत लाभार्थी किसान परिवारों को हर साल 6,000 रुपये की वित्तीय सहायता दी जाती है, जो 2,000 रुपये की तीन समान किश्तों में दी जाती है। यह धनराशि सीधे बेनीफिशियरीज के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर की जाती है। अगर आपके खाते में अभी तक पैसा ट्रांसफर नहीं हुआ है तो सबसे पहले अपना स्टेटस और बैंक खाता चेक करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper