PRESIDENTIAL ELECTION : यशंवत सिन्हा का बड़ा बयान, ‘राष्ट्रपति बना तो लागू नहीं होने दूंगा सीएए’

नई दिल्ली। विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशंवत सिन्हा ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा, अगर वह निर्वाचित होते है तो वह सुनिश्चित करेंगे कि नागरिकता संशोधन कानून सीएए लागू नही हो। असम में यशंवत सिन्हा ने सांसदों से बाचतीत करते हुए कहा कि बीजेपी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार नागरिकता संशोधन कानून अभी तक लागू नहीं कर पाई है क्योंकि इसकी रूपरेखा जल्दबाजी में तैयार की गई थी। इसके अलावा उन्होंने कहा, नागरिकता असम के लिए एक बड़ा मुद्दा है और सरकार देशभर में कानून लाना चाहती है लेकिन अभी तक ऐसा नहीं कर पाई है।

बता दें कि पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, पहले सरकार ने कोविड-19 महामारी का बहाना दिया, लेकिन अब भी वे इसे लागू नहीं कर पाए हैं क्योंकि यह जल्दबाजी में मूर्खतापूर्ण तरीके से तैयार किया गया अधिनियम है। सिन्हा ने कहा कि देश के संविधान को बाहरी ताकतों से नहीं बल्कि सत्ता में बैठे लोगों से खतरा है। यशवंत सिन्हा ने कहा, हमें देश के संविधान को बचाना होगा। यदि मैं राष्ट्रपति निर्वाचित होता हूं, तो मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि सीएए लागू नहीं हो। सिन्हा 18 जुलाई को राष्ट्रपति पद के लिए होने वाले चुनाव के मद्देनजर असम के विधायकों और सांसदों का समर्थन हासिल करने के लिए इस समय राज्य के दौरे पर आए हुए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper