SBI ब‍िना ब्‍याज और ब‍िना गारंटी दे रहा 25 लाख का लोन! सरकार ने दिया ये बयान

नई दिल्ली। सोशल मीड‍िया के द‍िन पर द‍िन बढ़ते यूजर्स के बीच कई बार गलत खबरें वायरल हो जाती हैं. इसके कारण कई बार लोग ठगी का श‍िकार हो जाते हैं. इसल‍िए क‍िसी भी योजना में पैसा लगाने या फॉर्म आद‍ि भरने से पहले जरूरी है क‍ि आप उसकी बारे में सही से जानकारी कर लें. इन द‍िनों कई यू-ट्यूब चैनल पर सरकार की तरफ से चलाई जा रही योजनाओं के बारे में दावा क‍िया जा रहा है.

कई यू-ट्यूब चैनल की तरफ से दावा क‍िया जा रहा है क‍ि केंद्र सरकार की तरफ से चलाई जा रही ‘प्रधानमंत्री कन्‍या सम्‍मान योजना’ में हर महीने बेट‍ियों को 2500 रुपये द‍िए जा रहे हैं. यह पैसा सीधा बेटी के बैंक अकाउंट में पहुंच रहा है. इसके अलावा यू-ट्यूब चैनल पर यह भी दावा क‍िया जा रहा है क‍ि ‘मह‍िला स्‍वरोजगार योजना’ के तहत सभी मह‍िलाओं के खाते में सरकार एक लाख रुपये की राश‍ि ट्रांसफर कर रही है. इससे मह‍िलाएं अपना कारोबार कर सकती हैं.

देश की सभी मह‍िलाओं को सरकार की ‘नारी शक्‍त‍ि योजना’ के तहत एसबीआई ब‍िना गारंटी और ब‍िना ब्‍याज के 25 लाख रुपये का लोन दे रहा है. इस वायरल मैसेज और यू-ट्यूब चैनल पर यह भी दावा क‍िया जा रहा है क‍ि यह योजना पूरे भारत की मह‍िलाओं के ल‍िए है.

पीआईबी फैक्‍ट चेक इन वीड‍ियो की तलाश के बाद एक वीड‍ियो जारी कर इन सभी योजनाओं को फर्जी बताया है. पीआईबी की तरफ से क‍िये गए ट्वीट में कहा गया क‍ि कुछ यू-ट्यूब चैनल्‍स पर व‍िभ‍िन्‍न सरकारी योजनाओं से जुड़ी जानकारी दी जा रही है, जो क‍ि वास्‍तव में नहीं हैं. धोखेबाजों की तरफ से गलत भावना के साथ तैयार की गई ऐसी सामग्री के झांसे में न आएं.

पीआईबी की तरफ से यह भी बताया गया क‍ि आप कभी भी अपनी पर्सनल जानकारी इन वीड‍ियो में बताई गई वेबसाइट पर शेयर न करें. साइबर क्राइम में ल‍िप्‍त लोग आपकी पर्सनल ड‍िटेल का म‍िस यूज कर सकते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper