भारत में भी आप खेल सकते हैं ऑनलाइन घुड़दौड़ सट्टेबाजी

क्या आप भी कम समय में अधिक पैसे कामना चाहते हैं लेकिन आपके पास उचित साधन नहीं हैं कि आप कम समय में एक बड़ी धनराशि कमा सकें। इस दुनिया में जॉब और खेल तो बहुत सारे हैं लेकिन इन सब में से कुछ तो आपको ऐसा जॉब देंगें जहा आपको काफी मेहनत वाला काम करके भी कम धनराशि प्राप्त होती है, वहीँ कुछ ऐसे जॉब भी हैं जहाँ पैसे तो बहुत ज्यादा मिलेंगे लेकिन मेहनत बहुत अधिक करनी होगी।   

लेकिन, अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं क्योंकि आज आपको बताने वाले हैं एक ऐसे ऑनलाइन गेम के बारे में जिसे खेलकर आप घर बैठे ही एक बड़ी जैकपोट जीत सकते हैं। जी हाँ! ऑनलाइन ही, जब ऑनलाइन ही आपको देश-विदेश के सारे न्यूज़ मिल जाते हैं, तो फिर आप घर बैठे ऑनलाइन माध्यम द्वारा पैसे क्यों नहीं कमा सकते। यहाँ बात हो रही है ऑनलाइन हॉर्स रेस के बारे में। जी हाँ! वो भी आपके देश में यानी कि भारत में ऑनलाइन घुड़दौड़ सट्टेबाजी के बारे में। आपको ये जानकर हैरानी होगी कि इस खेल को खेलकर आप वो सब कुछ पा सकते हैं जिसकी आपने कल्पना भी नहीं की हो। आइये जानते हैं इस खेल से जुड़ीं कुछ जरुरी बातों को : 

क्या भारत में घुड़ दौड़ सट्टेबाजी कानूनी है?

जी हाँ! भारतीय खेल कानून के अनुसार, पी.जी.ए 1867: घुड़दौड़ यानी की हॉर्स रेस को कौशल से भरा खेल माना जाता है, यह खेल अवसरों को कम कर देता है। आपको बस घोड़ों, जॉकी, खिलाड़ियों, और रेस ट्रैक के बारे में अच्छे से जानने की आवश्यकता है फिर चाहे वो ऑफलाइन हो या फिर ऑनलाइन; भारत में हॉर्स रेस पर सट्टा लगाना बिल्कुल कानूनी है।

भारत में कई हॉर्स रेस ट्रैक/ टर्फ क्लब हैं, जहां पर आप हर दांव बिल्कुल लाइव देख सकते हैं और दांव लगा भी सकते हैं। यहाँ पर भारत में मौजूद 8 सबसे ज्यादा लोकप्रिय रेस कोर्स की सूची दी गयी है, जो की इस प्रकार है :

  • टर्फ क्लब, मुंबई : 

यह एक बहुत ही सुंदर, समुद्र का सामना करने वाला और आकार में अंडाकार वाला एक क्लब है। यह क्लब प्रत्येक वर्ष भारतीय डर्बी दौड़ का आयोजन नवंबर के महीने से अप्रैल के महीने तक करता है।

  • टर्फ क्लब, मैसूर : 

हॉर्स रेस गेम कार्यक्रम का आयोजन मैसूर टर्फ क्लब के द्वारा नवंबर से लेकर जनवरी और अप्रैल से लेकर जून तक किये जाते हैं।

  • टर्फ क्लब, मद्रास : 

मद्रास में बहुप्रसिद्ध रेस कोर्स में से एक टर्फ क्लब का आयोजन अप्रैल से लेकर जून तक किया जाता है। यहाँ पर गर्मियों में हॉर्स रेस का आयोजन किया जाता है।

  • रेस क्लब, दिल्ली : 

दिल्ली का यह रेस क्लब प्रत्येक वर्ष मानसून तथा सर्दियों के मौसम में करीब-करीब 400 घोड़े, 30 जॉकी के और लगभग 70 से 80 घुड़दौड़ का आयोजन करता है।

  • टर्फ क्लब, रॉयल वेस्टर्न इंडिया : 

रॉयल वेस्टर्न इंडिया टर्फ क्लब पुणे में स्थित है। यह रेस ट्रैक करीब 2.8 किमी लंबा है, जो प्रत्येक वर्ष जुलाई से लेकर अक्टूबर तक थरोब्रेड रेस का आयोजन करता है।

  • टर्फ क्लब, हैदराबाद : 

हैदराबाद का यह रेस कोर्स, सर्दी तथा गर्मी दोनों ही मौसमों में डेक्कन / थरोब्रेड हॉर्स रेस का आयोजन करता है।

  • टर्फ क्लब, रॉयल कलकत्ता : 

रॉयल कलकत्ता के टर्फ क्लब में दौड़ प्रत्येक वर्ष नवंबर से लेकर मार्च तक सार्वजनिक छुट्टियों तथा सप्ताह के अंत तक आयोजित की जाती है।

अन्य एक विकल्प जो कि भारतीय या अंतर्राष्ट्रीय हॉर्स रेस सट्टेबाजी वेबसाइटों पर ऑनलाइन दांव लगाना है। आपको सिर्फ एक जरुरी काम करना है वो है सबसे अच्छे का चुनाव करना है तथा प्री-मैच/ लाइव हॉर्स रेस पर अपना दांव लगाना शुरू करना है।

हॉर्स रेस सट्टेबाजी किस तरह से काम करती है?

हॉर्स रेस भारत में सबसे लोकप्रिय तथा शाही खेलों में से एक है। यहाँ पर लोग केवल लाइव दांव लगाना ही पसंद करते हैं। हॉर्स रेस यानी की घुड़दौड़ पर बेटिंग शुरू करने के 2 संभावित तरीके हैं, जो की इस प्रकार हैं :

  • शारीरिक सट्टेबाजी : 

शारीरिक सट्टेबाजी का अर्थ है कि भारत में किसी भी हॉर्स रेस ट्रैक पर जाने की शर्त आप लगा सकते हैं।

  • ऑनलाइन सट्टेबाजी : 

बेस्ट हॉर्स रेस सट्टेबाजी वेबसाइटों पर साइन अप करके आप कभी भी और कहीं भी दांव लगा सकते हैं।  

घुड़दौड़ वेबसाइटों पर आप किस तरह से बेट लगा सकते हैं और जीत हासिल कर सकते हैं?

घुड़दौड़ यानि की हॉर्स रेस वेबसाइट्स पर आप घर बैठे बेट भी लगा सकते हैं और भी हासिल कर सकते हैं, बस आपको यहाँ बताये गए बातों पर थोड़ा ध्यान देना होगा :

चरण 1: सबसे पहले आप अपने पसंदीदा हॉर्स रेट बेटिंग साइट पर साइन अप करें।

चरण 2: इसके बाद आप अपने अकाउंट की पुष्टि तथा उसे सत्यापित करें।

चरण 3: तीसरे चरण में राशि जमा करें।

चरण 4: हॉर्स रेस की उन स्पर्धाओं पर क्लिक करें, जिस पर आप अपना दांव लगाना चाहते हैं।

चरण 5: इसके बाद हॉर्स रेस ऑड्स चुनें तथा सिंगल या मल्टीपल बेट लगाएं।

चरण 6: अब आपको परिणाम घोषित होने की प्रतीक्षा करनी होगी!

 

हॉर्स रेस सट्टेबाजी वेबसाइटों पर जमा करने के लिए प्रमुख भारतीय भुगतान विधियां :

भारत में, ऑनलाइन हॉर्स रेस सट्टेबाजी लॉटरी एकमात्र ही कानूनी सट्टेबाजी का खेल है। इससे ग्राहक किसी भी तरह से, ऑनलाइन या ऑफ़लाइन (स्थानीय/ अंतरराष्ट्रीय सट्टेबाजी वेबसाइटों) दोनों पर ही दांव लगा सकते हैं। इसका सबसे विशेष लाभ तो यह है कि भारत के ग्राहक इसे सबसे अधिक उपयोग में लाकर अपने पैसे जमा कर सकते हैं और अपनी जरूरत के अनुसार बहुत ही आसानी से उन्हें निकाल भी सकते हैं। इसमें कई विश्वसनीय भुगतान विधियों को उपयोग में लाया जाता है जैसे कि : गूगल पे, पेटीएम, वीसा, पेपाल, फ़ोन पे आदि। 

निष्कर्ष :

आज के आर्टिकल में एक ऐसे ऑनलाइन गेम के बारे में चर्चा की गयी जिसे खेलकर आप घर बैठे ही एक बड़ी जैकपोट जीत सकते हैं। जी हाँ! चर्चा का विषय था भारत में हॉर्स रेस सट्टेबाजी।  ये आप ऑनलाइन या ऑफलाइन बहुत ही आराम से खेल सकते है। इसके अलावा आपको इस खेल को लेकर हर एक जानकारी साझा की गई। खास तौर से घुड़दौड़ वेबसाइटों पर आप किस तरह से बेट लगा सकते हैं और जीत हासिल कर सकते हैं? इसमें बताए गए जरुरी हिदायतों द्वारा आप घर बैठे ही कानूनी रूप से पैसे कमा सकते हैं। अगर अभी भी आपके मन में हॉर्स रेस सट्टेबाजी से जुड़ा कोई भी सवाल हो तो आप सवाल पूछ सकते हैं, अपने सवालों को कमेंट सेक्शन में लिख सकते हैं, जल्द से जल्द आपके सवालों के जबाब दिए जायेंगे। 

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper