अगले 28 दिन तक कर लें शंख से जुड़ा ये छोटा सा काम, झमाझम होगी धन की बरसात

 


नई दिल्ली। भगवान श्रीकृष्‍ण का प्रिय महीना मार्गशीर्ष मास शुरू हो चुका है. इसे अगहन महीना भी कहते हैं. इस महीने में भगवान कृष्‍ण के अलावा मां लक्ष्‍मी और शंख की पूजा करना बहुत लाभ देता है. अगहन के महीने में भगवान श्रीकृष्‍ण की पूजा करने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. वहीं मां लक्ष्‍मी जी और शंख की पूजा करने से जीवन में अपार सुख-समृद्धि आती है. दरअसल, समुद्र मंथन में मां लक्ष्‍मी के साथ-साथ शंख भी प्रकट हुआ था. शंख को मां लक्ष्‍मी का भाई माना गया है. इसलिए मां लक्ष्‍मी को प्रसन्‍न करने के लिए उनकी पूजा में शंख जरूर बजाना चाहिए.

मां लक्ष्‍मी की विशेष कृपा पाना चाहते हैं तो मार्गशीर्ष महीने में रोज शंख की पूजा जरूर करें. घर के मंदिर में शंख की स्‍थापना करने के लिए मार्गशीर्ष महीना बहुत शुभ होता है. विधि-विधान से शंख की स्‍थापना करें और रोज उसका पूजा करें. मां लक्ष्‍मी की कृपा से जीवन में खूब सुख-समृद्धि रहेगी.

धन प्राप्ति के लिए मार्गशीर्ष महीने में शंख के कुछ और प्रभावी उपाय कर सकते हैं. ये उपाय करने से भी मां लक्ष्‍मी खुश होकर धन, सुख-समृद्धि का वरदान देती हैं.

– दक्षिणावर्ती शंख में दूध भरकर उससे भगवान विष्णु का अभिषेक करें. इससे भगवान विष्‍णु और मां लक्ष्‍मी दोनों प्रसन्‍न होंगी.

– मार्गशीर्ष महीने में किसी भी दिन मोती शंख में चावल भर कर उसे एक कपड़े में लपेट लें. इस पोटली को तिजोरी में रख लें. मां लक्ष्‍मी हमेशा आपके घर में वास करेंगी.

– मार्गशीर्ष माह में विष्णु मंदिर में शंख का दान करें. पैसों की तंगी दूर होगी.

– तमाम प्रयासों के बाद भी आय नहीं बढ़ रही है या कुंडली में शुक्र ग्रह अशुभ स्थिति में है तो सफेद रंग के कपड़े में सफेद शंख, चावल, बताशे लपेटकर बहते जल में प्रवाहित कर दें. जल्‍द ही दिन बदल जाएंगे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper