अब इस टीम के लिए खेलते नज़र आएंगे ऋद्धिमान साहा, जानें क्यों छोड़ा बंगाल का साथ

नई दिल्ली: भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) अब बंगाल की ओर से खेलते हुए नज़र नहीं आएंगे। वह अब त्रिपुरा (Tripura) के लिए खेलेंगे। जल्द ही साहा त्रिपुरा (Tripura) टीम से जुड़ेंगे। इसके लिए ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) के बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन (Cricket Association of Bengal) से नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (No Objection Certificate) मिल चुका है। साहा अब तक भारत के लिए 40 टेस्ट मैच खेल चुके हैं।

मेंटर की भूमिका
त्रिपुरा क्रिकेट एसोसिएशन (Tripura Cricket Association) के ज्वॉइंट सेक्रेटरी (Joint Secretary) किशोर दास (Kishore Das) ने बताया है कि, ऋद्धिमान साहा (Wriddhiman Saha) से हमारी बात हुई, वह त्रिपुरा (Tripura) से खेलने के लिए तैयार हैं। ऋद्धिमान साहा त्रिपुरा के लिए मेंटर (Mentor) की भूमिका भी निभाएंगे। साथ ही खिलाड़ियों को बेहतर करने के लिए मोटिवेट (Motivate) भी करेंगे।

किशोर दास के नौसर, साहा के इंटरनेशनल और घरेलू क्रिकेट में अनुभव को देखते हुए वह टीम के साथ जुड़ते हैं तो इससे खिलाड़ियों को बेहद फायदा होगा। बता दें कि, अक्टूबर में 38 साल के होने वाले साहा ने बंगाल को छोड़ने का फैसला किया जब CAB के संयुक्त सचिव देवब्रत दास ने आरोप लगाया कि यह अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज राज्य के लिए घरेलू मैचों से बाहर रहने के बहाने बना रहे हैं।

2007 में खेला था पहला घरेलू मैच
ऋद्धिमान साहा का जन्म पश्चिम बंगाल के शक्तिगढ़ में हुआ था। उन्होंने नवंबर 2007 में बंगाल के लिए खेलते हुए हैदराबाद के खिलाफ घरेलू क्रिकेट में अपने करियर की शुरुआत किए थे। साहा ने अब तक फर्स्ट क्लास क्रिकेट में 122 मैच खेले, जिसमें 41।98 के औसत से 6423 रन बनाए हैं। साहा ने टीम इंडिया के लिए 40 टेस्ट में 1353 रन और 9 वनडे मैचों की 5 पारियों में 41 रन बनाए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper