अब जल्द ही पूरे होंगे 9471 पीएम आवास, केंद्र से मिले 94 करोड़

PM Awas Yojna : उज्जवल प्रदेश, भोपाल. प्रधानमंत्री आवास निर्माण के लिए लंबे समय से केन्द्र सरकार द्वारा राशि नहीं मिलने के कारण काम रुका हुआ था। अब केन्द्र सरकार ने 94 करोड़ 70 लाख रुपए आबंटित कर दिए है। इससे अब हजारों गरीबों के आशियाने जल्द बनने की राह खुल गई है। इससे प्रदेश के 9471 गरीबों के आवास का काम तेजी से पूरा हो सकेगा।

भारत सरकार के आवासन एवं शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय ने प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत स्वीकृत बीएलसी घटक परियोजनाओं के लिए जियो टेंिगंग के आधार पर लिंटल स्तर की परियोजनाओं के लिए दूसरी किश्त की राशि देने 45 करोड़ 73 लाख रुपए आवंटित किए गए है। यह राशि प्रदेश के 287 निकायों के 4 हजार 574 हितग्राहियों के खातों में जमा की जाना है

इसी तरह प्रदेश के बीस निकायों के एक हजार 769 हितग्राहियों के बैंक खातों में पीएम आवास की प्रथम किश्त जमा करने के लिए 17 करोड़ 69 लाख रुपए आवंटित किए गए है। केन्द्र सरकार ने पीएम आवास के लिए 7 करोड़ 3 लाख रुपए और आबंटित किए है। इस राशि को प्रदेश के 35 निकायों के 703 हितग्राहियों के खातों में जमा कराया जाएगा। इसका उपयोगिता प्रमाणपत्र भी केन्द्र सरकार को भेजा जाएगा।

प्रदेश के 91 नगरीय निकायों के लिए 24 करोड़ 25 लाख रुपए की प्रथम किस्त आवंटित कर दी है। इसे नगरीय निकायों को इस व्यय सीमा का उपयोग करते हुए हितग्राहियों के खातों में वितरित करने की अनुमति भी दे दी गई है। समर्पण के बाद इस योजना में 51 हजार 691 आवासीय इकाईयों का निर्माण किया जाना है।

निकाय द्वारा प्रदान की गई जानकारी के अनुसार हितग्राहियों को अंतरित की गई राशि तथा नवीन भुगतान प्रणाली अनुसार प्रदाय की गई व्यय सीमा को शामिल करते हुए अब 38 लाख 943 रुपए खर्च किए जा सकेंगे। यूनिक स्तर की भौतिक प्रगति के आधार पर हितग्राहियों को पहली किस्त देने के लिए 2 हजार 425 हितग्राहियों के लिए 24 करोड़ 25 लाख रुपए आवंटित किए गए है। यह राशि बीस दिन में हितग्राहियों के बैंक खातों में आवंटित कर दी जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper