अब वॉट्सएप से कॉल करने पर देने होंगे पैसे!, जानें सरकार क्यों उठाने जा रही है ये कदम…

नई दिल्ली. वॉट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम और अन्य ऐप जो आपको बिल्कुल मुफ्त में कॉल करने देते हैं, जल्द ही आपको भुगतान करने के लिए कह सकते हैं, अगर ट्राई का प्रस्ताव लागू होता है. द इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट के आधार पर, दूरसंचार विभाग ने भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण से इंटरनेट आधारित कॉल को विनियमित करने के बाद के प्रस्ताव पर अपने विचार व्यक्त करने को कहा है. दूरसंचार ऑपरेटरों और सेवा प्रदाताओं की ओर से पूरे उद्योग के लिए “सेम सर्विस, सेम रूल्स” के सिद्धांत पर विचार करने का दबाव रहा है.

दूरसंचार विभाग ने कही यह बात
ट्राई ने शुरुआत में इस प्रस्ताव को 2008 में वापस भेज दिया था, जब भारत में मोबाइल इंटरनेट अभी भी अपने शुरुआती चरण में था. डीओटी ने अब प्रस्ताव पर प्रतिक्रिया दी है, ट्राई से व्यापक संदर्भ के साथ आने के लिए कहा है. ऐसा नई तकनीकों के उभरने के बीच तकनीकी माहौल में आए बदलाव के चलते किया जा रहा है. नए नियम इंटरनेट टेलीफोन ऑपरेटरों और यहां तक ​​कि ओटीटी खिलाड़ियों को भी ध्यान में रखकर बनाने को कहा गया है.

इंटरनेट पर कोई और मुफ्त कॉल नहीं?
ट्राई की मूल सिफारिश 2008 में वापस की गई थी. यह कहा गया था कि इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स (आईएसपी) को सामान्य टेलीफोन नेटवर्क पर इंटरनेट कॉल प्रदान करने की अनुमति दी जा सकती है. हालांकि, उन्हें इंटरकनेक्शन फी के लिए भुगतान करना होगा, वैध अवरोधन उपकरण स्थापित करना होगा और कई सुरक्षा एजेंसियों का अनुपालन करना होगा. 2016-17 में एक बार फिर इस मुद्दे को उठाया गया था जब नेट न्यूट्रैलिटी का मुद्दा चर्चा में था. हालांकि, दूरसंचार विभाग अब प्रस्ताव पर विचार कर रहा है.

कहा जाता है कि टेलीकॉम ऑपरेटर लंबे समय से सभी इंटरनेट आधारित कॉलिंग और मैसेजिंग सेवाओं के लिए एक समान कानून की मांग कर रहे हैं. रिपोर्ट में कहा गया है, ‘उन्हें लाइसेंस शुल्क के समान स्तर का भुगतान करना चाहिए, कानूनी अवरोधन, सेवा की गुणवत्ता आदि के विनियमन का पालन करना चाहिए, जैसा कि दूरसंचार ऑपरेटरों और इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स (आईएसपी) पर लागू होता है.’

यदि ऐसा कानून अंततः पारित हो जाता है, तो Google डुओ, वॉट्सएप, इंस्टाग्राम, फेसबुक मैसेंजर, सिग्नल, टेलीग्राम, और इसी तरह की सभी सेवाओं आदि जैसी मुफ्त टेक्स्टिंग और कॉलिंग सेवाओं पर अत्यधिक भरोसा करने वाले यूजर्स को सेवाओं के लिए भुगतान करना होगा. यह देखा जाना बाकी है कि इन सेवाओं पर टैरिफ और शुल्क कैसे लागू किए जाएंगे, यह देखते हुए कि इंटरनेट पर सब कुछ डेटा पैकेट पर आधारित है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper