इस भारतीय सीईओ की सैलरी इतनी कि रोज खरीद सकता है एक नई थार, पैकेज जान उड़ जाएंगे होश

 


नई दिल्ली. इंफोसिस के पूर्व प्रेसिडेंट रवि कुमार एस ने प्रमुख आईटी कंपनी कॉग्निजेंट में सीईओ और बोर्ड मैंबर के रूप में कार्यभार संभाला है. उन्‍होंने ब्रायन हम्‍फ्रीज की जगह ली है. कॉग्निजेंट ने मोटे सैलरी पैकेज पर रवि कुमार को सीईओ की जिम्‍मेदारी दी है. रवि कुमार की सालाना सैलरी इतनी है कि वो रोज एक नई थार गाड़ी ले सकते हैं. रवि कुमार 20 वर्षों से इंफोसिस में थे. साल 2016 से लेकर 2022 तक वे इंफोसिस के प्रेसिडेंट रहे. अब कॉग्निजेंट को नई दिशा देने की जिम्‍मेदारी रवि के कंधों पर है.

रवि कुमार कॉग्निजेंट में मोटी सैलरी पर काम करेंगे. कांग्निजेंट में उन्‍हें 7 मिलियन डॉलर यानी 56,96,77,500 रुपये सालाना सैलरी के रूप में दिए जाएंगे तो उन्‍हें 6 करोड़ रुपये साइन इन बोनस के तौर पर मिलेंगे. रवि कुमार को कंपनी मूल वेतन के तौर पर 1 मिलियन डॉलर यानी 8,18,03,550 रुपये का भुगतान कॉग्निजेंट करेगी. उन्‍हें सालाना 2 मिलियन डॉलर यानी 163,607,100 तक का कैश इनसेंटिव भी मिलेगा. इसके अलावा कंपनी ने उन्‍हें वन टाइम न्यू हायर अवार्ड के तौर पर 5 मिलियन डॉलर यानी 409,017,750 करोड़ ऑफर किया है. यह उनकी ज्वाइनिंग के एक साल के भीतर स्टॉक रिटर्न के आधार पर मिलेगा.

रवि कुमार ने इंफोसिस के अलावा भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर, ओरेकल कॉर्पोरेशन और प्राइसवाटरहाउसकूपर्स में भी काम किया है. अभी कॉग्निजेंट में ब्रायन हम्फ्रीज 15 मार्च तक स्पेशल एडवाइजर बने रहेंगे. कंपनी ने साल 2020 में सीईओ ब्रायन हम्फ्रीज को करीब 13.8 मिलियन डॉलर की सैलरी दी थी. इंफोसिस में भी रवि कुमार एस मोटा वेतन पाते थे. इंफोसिस की 2021-22 की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, रवि कुमार सीईओ सलिल पारेख और पूर्व सीओओ यूबी प्रवीण राव के बाद कंपनी के तीसरे सबसे अधिक वेतन पाने वाले अधिकारी थे.

रवि कुमार पर कॉग्निजेंट के इन-डिमांड सॉल्यूशंस और इंटरनेशल एक्सपेंशन की अहम जिम्मेदारी है. रवि ने इंफोसिस में रहते हुए बड़ी सफलताएं हासिल की थी. अब कॉग्निजेंट में भी उन्‍हें दोहराने का दबाव उन पर है. रवि कुमार ने शिवाजी यूनिवर्सिटी से बैचलर डिग्री हासिल की है. उन्होंने जेवियर इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट से एमबीए की डिग्री ली है. सीईओ के रूप में कॉग्निजेंट में नियुक्ति के बाद रवि कुमार ने कहा, “मैंने कॉग्निजेंट को मौलिक रूप से अपने व्यवसाय को बदलते, डिजिटल पोर्टफोलियो और क्षमताओं का विस्तार करते और ग्राहक संबंधों और साझेदारी को मजबूत करते हुए देखा है. हमारा प्रयास इसे नई दिशा देने का रहेगा.”

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper