उत्तर प्रदेश राज्य आंगनबाडी कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन


सीतापुर। आंगनबाडी कार्यकत्री, मिनी कार्यकत्री एवं सहायिका कर्मचारियो का विगत तीन माह से भुगतान नही किया गया जबकि शासन के आदेश है कि प्रतिमाह मानदेय का भुगतान किया जायें जिससे जनपद की समस्त आंगनबाडी कार्यकत्रियों, मिनी कार्यकत्री एवं सहायिकाओं का भरण पोषण मुश्किल हो रहा है एवं भुखमरी के कगार पर होने के कारण अन्य कठिनाइयों का सामना करना पड रहा है। इसी के साथ आगामी दिनों में महत्वपूर्ण त्यौहार नवरात्र, करवाचौथ, दीपावली, भइया दुईज जैसे त्यौहार है जिस कारण अल्प मानदेय भोगी आंगनबाडी कार्यकत्रियों के सामने इस त्यौहारों के माह में विषम स्थित उत्पन्न हो रही है। दीपावली जैसे महत्वपूर्ण त्यौहारो को देखते हुए मानदेय का अबिलम्ब भुगतान कराया जायें।
उक्त बाते उत्तर प्रदेश राज्य आंगनबाडी कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष श्रवण कुमार वर्मा ने कही। उन्होंने बताया कि मानदेय का भुगतान एक सप्ताह में नही किया गया तो आंगनबाडी कार्यकत्री, मिनी कार्यकत्री एवं सहायिका कर्मचारी धरना प्रर्दशन देने के लिए बाध्य होगी। जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन व प्रशासन की होगी।
आंगनबाडी कार्यकत्री, मिनी कार्यक्रत्री एवं सहायिकाओं का मानदेय शासनादेश के तहत प्रतिमाह भुगतान कराया जाए। उन्होनें ने कहा कि आंगनबाडी कार्यक्रत्री के रिक्त पदो पर वरिष्ठ सहायिकाओं की पदोन्नति की जाए, बाद में सीधी भर्ती की जाए। आंगनबाड़ी कार्यक्रत्रीयों से विभाग के अलावा अन्य विभागों का कार्य न लिया जाए, जिससे क्रेन्द संचालन करने में समस्याए उत्पन्न होती है। मिनी आगनबाड़ी कार्यकत्री को समान कार्यकत्री के पद पर पदोन्नति की जायें।
स्वयं सहायता समूह के द्वारा ड्राई राशन प्राप्त कराने पर आंगनबाडी कार्यकत्री एवं मिनी कार्यकत्रियों को रसीद प्राप्त करायी जायें। जनपद की समस्त बाल विकास परियोजनाओं में आंगनबाडी कार्यकत्री, मिनी कार्यकत्रियों को वर्ष 2018 में घटिया मोबाइल विभाग के माध्यम से प्राप्त कराये गये थें, वह मोबाइल सभी खराब हो गये है जिससे आंगनबाडी कार्यकर्त्रियो मिनी कार्यकत्री को कार्य करने में बाधा उत्पन्न होती है विभाग के माध्यम से नये मोबाइल प्राप्त कराये जाए जिससे कार्य पूर्ण किया जाए। शेष मोबाइलो का रिचार्ज एवं डाटा विभाग के माध्यम से उपलब्ध कराया जाय। आंगनबाडी कार्यकत्री, मिनी कार्यकत्री एवं सहायिकाओ, को वर्ष 2023 में विभाग के माध्यम से ड्रेस नही दी गयी यह तत्काल दिलायी जायें। मुख्य सेविकाओं के रिक्त पदों पर वरिष्ठ आंगनबाड़ी कार्यकत्रीयों की पदोउन्नति की जाए, पदोउन्नति में आयु सीमा का प्रतिबन्ध समाप्त किया जाए। 62 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुकी आंगनबाडी कार्यकत्री, मिनी कार्यक्रत्री एवं सहायिका कर्मचारियों को विभाग से निष्कासन के बाद पश्चिम बंगाल की तरह उत्तर प्रदेश में तीन लाख रूपये एकमुश्त धनराशि एवं प्रतिमाह तीन हजार रूपये पेंशन दी जाए। शासन एवं निदेशक मुख्य सचिव उ.प्र. जिला कार्यक्रम अधिकारी आदेशो का पालन करते हुए बाल विकास परियोजना अधिकारी की उपस्थिति में संघ के पदाधिकारी एवं प्रतिनिधि के साथ आगनबाड़ी कार्यकत्री मिनी आंगनबाड़ी/ सहायिकाओं की उपस्थिति में परियोजना कार्यालय पर मासिक बैठक करायी जाय। जिससे समस्याओं का समाधान परियोजना कार्यालय पर किया जाय।  आगनबाडी कार्यकत्री, मिनी आगनबाड़ी के द्वारा ड्राई राशन वितरण के बाद मोबाइल नम्बर का सत्यापन न कराया जाय। आनगबाडी कार्यकत्री,मिनी कार्यकत्री एवं सहायिकाओं को राज्य कर्मचारियों की भांति अवकाश दिया जाय। प्रोत्साहन राशि को मानदेय में परिवर्तित करते हुए मानदेय के साथ भुगतान किया जाय। इस मौके पर मुन्नी देवी, शान्ती देवी, रजनी देवी, पिन्की देवी, अनीता पाण्डेय, योगेश्वरी वर्मा, संध्या देवी, रामजती, आशा देवी, तारादेवी, संगीता वर्मा, सुमन देवी, उत्तमा देवी,सुनीता सिंह, उर्मिला वर्मा, फूलमती वर्मा, पुनीता मौर्या, अन्नू देवी आदि आंगनबाडी कार्यकत्री, मिनी कार्यकत्री तथा सहायिका भारी संख्या में मौजूद रही।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
E-Paper