एएमए हर्बल वेजिटल हेयर कलर से बालों को कलर के साथ दें पोषण भी

लखनऊ, 20 सितम्बर 2022: बाजार में मौजूद केमिकल युक्त हेयर कलर की भीड़ में एएमए हर्बल ने वेजिटल हेयर कलर की एक रेंज बाजार में उतारी है। ये हेयर कलर बालों को सुरक्षित तरीके के कलर करते हैं साथ ही बालों और स्कैल्प को पोषण भी देते हैं। वेजिटल हेयर कलर तीन कलर ब्लैक, डार्क ब्राउन और बरगंडी में उपलब्ध हैं। ये 50 व 100 ग्राम के पैक में मिल रहे हैं। वेजिटल हेयर कलर बालों को प्राकृतिक तरीके से कलर करता है जिसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है।

अगर आप भी बालों को केमिकल हेयर डाई से कलर करके तंग हो चुके हैं तो एएमए हर्बल वेजिटल हेयर कलर से प्राकृतिक तरीके से बालों को कलर करें। वेजिटल हेयर कलर बालों को कलर करने के साथ ही साथ बालों को और ज़्यादा सफ़ेद होने से भी बचाता है क्योंकि ये आपके बालों को ब्लीच नहीं करता बल्कि उन्हें प्राकृतिक रूप से कलर है। एएमए हर्बल के सह-संस्थापक और सीईओ यावर अली शाह ने बताया कि एएमए हर्बल का वेजिटल कलर 100 प्रतिशत अल्ट्रावायलेट किरणों से सुरक्षा प्रदान करता है। ये बालों को सूर्य की हानिकारक यूवी किरणों से बचाता है, साथ ही स्कैल्प को रुखा होने से भी बचाता है। एएमए हर्बल का वेजिटल हेयर कलर तीन कलर में उपलब्ध है इसमें ब्लैक, डार्क ब्राउन और बरगंडी जैसे आकर्षक कलर हैं। ये कलर लंबे समय तक चलते हैं साथ ही हानिकाकरक केमिकल से मुक्त होने की वजह से ये बालों को सफेद भी नहीं करते हैं। साथ ही बालों की अन्य समस्याओं जैसे डैंड्रफ, ड्राईनेस आदि समस्याओं से भी बचाता है।

यावर अली शाह ने ये भी बताया कि एएमए हर्बल का वेजिटल हेयर कलर पूरी तरह से हाइपोएलर्जेनिक है। इसमें अमोनिया का इस्तेमाल नहीं किया गया है। साथ ही अगर आपको हेयर कलर से किसी भी तरह की एलर्जी है तो ये उत्पाद आपके लिए पूरी तरह से उपयुक्त है क्योंकि इसमें किसी भी तरह के एलर्जन नहीं हैं। इसमें अमोनिया, पेरोक्साइड और पीपीडी का इस्तेमाल नहीं किया गया है। इसका बेस हाइपोएलर्जेनिक है। ये समान्य से लेकर सेंसेटिव तक सभी तरह की त्वचा के लिए उपयुक्त है। एएमए हर्बल का वेजिटल हेयर कलर की सबसे खास बात ये है कि वीगेन प्रोडक्ट है इसका परीक्षण जानवरों पर नहीं किया गया है। ये उत्पाद पूरी तरह ये पशु क्रूरता से मुक्त है। वेजिटल हेयर कलर में प्रयोग होने वाले सभी सामग्री पूरी तरह से हर्बल हैं और त्वचा के लिए 100 फीसदी सुरक्षित है। इन वेजिटल कलर के इस्तेमाल से बाल और स्कैल्प को किसी भी तरह का नुकसान भी नहीं होता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper