एसबीआई की इस योजना में एक बार निवेश कर पा सकते हैं हर महीने इनकम

नई दिल्ली। अगर आप भी हर महीने आय पाने के लिए सुरक्षित बचत योजना की तलाश कर रहे हैं और इस बात पर कंफ्यूज हो रहे हैं कि एन्युटी प्लान लेना चाहिए या फिर एफडी योजना में निवेश करना चाहिए। इसकी जानकारी आपको हम अपने इस लेख में देने जा रहे हैं।

इसके लिए हमने एसबीआई एन्युटी प्लान और एफडी प्लान का विश्लेषण किया है कि आप किस तरह से इन सुरक्षित बचत योजनाओं में मासिक आय प्राप्त कर सकते हैं। आइए जानते हैं…

एफडी में कोई भी ग्राहक एक निश्चित अवधि के लिए पैसा जमा कर सकता है और अवधि पूरी होने के बाद मैच्योरिटी पर उसे ब्याज को मिलाकर पहले से तय की गई रकम का भुगतान कर दिया जाता है। वहीं, एन्युटी प्लान में ग्राहक की ओर से जमा की गई रकम को पहले से ही चुनी हुई अवधि में हर महीने किस्त के रूप में ब्याज के साथ भुगतान कर दिया जाता है।

एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार, एन्युटी प्लान के अंतर्गत ग्राहक लंप सम राशि को एक निश्चित अवधि के लिए जमा कर सकते हैं, जिसके बाद बैंक की और से इस राशि को समान किस्तों में बांटकर हर महीने ब्याज के साथ लौटा दी जाती है। एन्युटी प्लान की मैच्योरिटी पर राशि शून्य रह जाती है।

एसबीआई एन्युटी प्लान में एफडी के समान ही ब्याज दर दी जाती है। इसमें कोई भी अवधि चुनने पर एफडी में जो ब्याज चल रही होती है। बैंक की ओर से वही दी जाती है। एसबीआई एन्युटी प्लान में आपको 5 साल तक हर महीने बैंक से 1000 रुपये लेने के लिए कम से कम 60,000 रुपये जमा करने होंगे, जिन्हें बैंक के द्वारा हर महीने ब्याज से साथ दिया जाएगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper