ऑनलाइन खरीदे बॉक्‍स ने शख्‍स को किया मालामाल, अंदर से निकले लाखो रूपये!

नई दिल्ली। अगर आपकी खरीदी हुई किसी चीज को घर लाने के बाद उससे ढेर सारे पैसे निकल आए तो लॉटरी लग गई जैसा शब्द ही आपके दिमाग (mind) में आएगा. ऐसा ही एक वाकया हुआ, जब एक आदमी ने ‘eBay’ पर एक पुरानी तिजोरी को केवल 7600 रुपये में खरीदा. जब उसने इसे खोला तो उस तिजोरी के अंदर उसे 19 लाख रुपये मिले. असल में इस तिजोरी (vault) के विक्रेता के पास, इस तिजोरी को खोलने का कोई उपाय नहीं दिख रहा था. इसकी वजह से उसने इसे बेचने का निर्णय किया था.

तिजोरी के विक्रेता जेम्स लैब्रेक (James Labrecque) के पास तिजोरी के लॉक खोलने का कोई कॉम्बिनेशन मौजूद नहीं था, जिसकी वजह से उन्होंने तिजोरी को बेचने का इरादा किया था. लेकिन उनके इस फैसले का उल्टा असर तब हुआ जब एक ग्राहक ने रिव्यू में 19 लाख रुपये मिलने की बात कही. कैलिफ़ोर्निया(california) के लैब्रेक ने ग्राहक को हुए इस लाभ का कुछ हिस्सा वापस करने के लिए कहा लेकिन उस तिजोरी के खरीदार ने ऐसा करने से मना कर दिया.

दोनों के बीच हुए एक हीटेड ई-मेल बहस में तिजोरी के खरीदार ने विक्रेता नीति का हवाला दिया जिसमें कहा गया था: ‘आप जो देखते हैं वह आपको मिलता है, कोई रिटर्न नहीं, और कोई पैसा वापस नहीं.’ इस तिजोरी के खरीदार अमेरिका (America) के ही टेनिसी प्रांत के बार्टलेट शहर से हैं. वह धूल से भरी इस तिजोरी को एक वेल्डर के पास ले गए, जो इसे खोलने में कामयाब रहा और वहीं पर वेल्डर और खरीददार के सामने तिजोरी से 20 हजार पाउंड (19 लाख रुपये) निकले.

तिजोरी के विक्रेता लैब्रेक ने तिजोरी बेचने के बाद कहा: ‘मैंने अपने दोस्त से कहा, मैंने विश्व पुरस्कार में सबसे बेवकूफ से भी बेवकूफ होने का पुरस्कार जीता है.’ उन्होंने आगे कहा, ‘मैंने एक तिजोरी जिसमें 19 लाख रुपये मौजूद थे, उसे ऐसे ही जाने दिया.’

हालांकि मामले का पता चलने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने अलग – अलग राय दी, जिसमें कुछ लोगों का मानना है कि खरीदार को पैसे आपस में बांटने चाहिए थे.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper