कोहिनूर के अलावा दुनिया की ये चार बेशकीमती चीजें लेकर गए थे अंग्रेज, क्या आपको है पता?

नई द‍िल्‍ली. क्वीन एलिजाबेथ II के निधन के बाद अब एक बार फिर कोहिनूर हीरा सुर्खियों में है. कोहिनूर की कहानी शुरू होती है आज से लगभग 800 साल पहले. यह आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में स्थित गोलकुंडा के खदानों में मिला था. दुनिया के सबसे बड़े हीरे में से एक कोहिनूर का अर्थ है रोशनी का पर्वत. यूं तो गोलकुंडा की खदानों का बेशकीमती हीरों से काफी पुराना रिश्ता है. कहा तो यह भी जाता है इसी खदान में दरियाई नूर. नूर-उन-ऐन, ग्रेट मुगल, ओरलोव आगरा डायमंड, अहमदाबाद डायमंड और ब्रोलिटीऑफ इंडिया जिसे कई हीरे मिले हैं.

रानी की कई बेशकीमती संपत्तियों में, ‘ग्रेट स्टार ऑफ अफ्रीका’ हीरा स्पष्ट रूप से बाहर खड़ा है. यह दुनिया का सबसे बड़ा हीरा है और इसका वजन लगभग 530 कैरेट है. लगभग 400 मिलियन अमरीकी डालर के मूल्य का अनुमान लगाया गया था. ‘ग्रेट स्टार ऑफ अफ्रीका’ का 1905 में दक्षिण अफ्रीका में खनन किया गया था. अफ्रीका के कई इतिहासकारों के अनुसार, हीरे का खनन 1905 में किया गया था और एडवर्ड सप्तम को प्रस्तुत किया गया था और उनका दावा है कि हीरा चोरी हो गया था या ब्रिटिश सरकार द्वारा उपनिवेशवादियों के रूप में उनके शासनकाल के दौरान लूटा गया. ‘ग्रेट स्टार ऑफ अफ्रीका’ वर्तमान में रानी के राजदंड में है.

टीपू सुल्तान की अंगूठी कथित तौर पर अंग्रेजों द्वारा 1799 में उनके मृत शरीर से उनके खिलाफ लड़ाई हारने के बाद ले ली गई थी. कई मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अंगूठी को ब्रिटेन में एक नीलामी में एक अज्ञात बोली लगाने वाले को लगभग 1,45,000 ब्रिटिश पाउंड में बेचा गया था.

कोहिनूर को भारत वापस लाने के आह्वान के बीच मिस्र के कार्यकर्ता और पुरातत्वविद रोसेटा स्टोन को उसकी मातृभूमि यानी मिस्र में वापस लाना चाहते हैं. रोसेटा स्टोन वर्तमान में ब्रिटिश संग्रहालय में प्रदर्शित है. कई स्थानीय समाचार पत्रों के अनुसार, पुरातत्वविदों का दावा है कि वे यह साबित कर सकते हैं कि रोसेटा स्टोन ब्रिटेन द्वारा चोरी किया गया था. रोसेटा स्टोन 196 ईसा पूर्व का है और इतिहासकारों के अनुसार, 1800 के दशक में फ्रांस के खिलाफ लड़ाई जीतने के बाद प्रसिद्ध पत्थर ब्रिटेन द्वारा अधिग्रहित किया गया था.

इतिहास में कई मीडिया रिपोर्ट्स और अभिलेखागार के अनुसार, 1803 में लॉर्ड एल्गिन ने कथित तौर पर ग्रीस में पार्थेनन की सड़ती दीवारों से पत्थरों को हटा दिया और उन्हें लंदन ले जाया गया. यही कारण है कि उन कीमती पत्थरों को एल्गिन मार्बल्स कहा जाता है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper