‘खाने के भी पैसे नहीं, क्या अपने बच्चों को मार दूं’, आर्थिक तंगी झेल रहे पाकिस्तानियों का छलका दर्द

इस्लामाबाद: आर्थिक तंगी झेल रहे पाकिस्तानियों की बढ़ती महंगाई ने कमर तोड़ दी है। सोशल मीडिया के जरिए लोग अब अपनी परेशानियों को सामने रख रहे हैं और प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ पर अपनी भड़ास निकाल रहे हैं। पाकिस्तान मुस्लिम लीग नवाज (PML-N) की टॉप लीडर मरियम नवाज पर भी जनता हमलावर है। पाकिस्तान में इन दिनों एक वीडियो वायरल है, जिसमें एक महिला बढ़ती महंगाई को लेकर सरकार से तीखे सवाल कर रही है। यह महिला कहती है कि उसके पास खाने तक के पैसे नहीं हैं। वह पूछती है कि क्या उसे अपने बच्चों की मार देना चाहिए? महिला की पहचान कराची में रहने वाली राबिया के तौर पर हुई है।

‘सरकार ही बताए महंगाई में कैसे होगा गुजर-बसर’
वीडियो में राबिया को रोते हुए देखा जा सकता है। रॉकेट की स्पीड से बढ़ती महंगाई को लेकर वह पीएम शाहबाज से सवाल कर रही है। राबिया कहती हैं कि मरियम नवाज भी महंगाई के मुद्दे पर चुप हैं। अब सत्ताधारी ही यह बताएं कि इस महंगाई में कैसे गुजर-बसर किया जाए। राबिया पूछती हैं, ‘मकान का किराया दूं, बिजली बिल भरूं, दूध खरीदूं, बच्चों के लिए दवा लाऊं या फिर उन्हें मार दूं?’

‘बच्चे की दवा खरीदना बंद कर दूं?’
राबिया बताती हैं कि वह दो बच्चों की मां हैं। उनके एक बच्चे की तबीयत ठीक नहीं है। वह कहती हैं कि बीते चार महीनों में दवाओं की कीमत बहुत बढ़ गई है। क्या मैं अपने बच्चे के लिए दवा खरीदना बंद कर दूं? सरकार ने गरीब लोगों को लगभग मार ही डाला है। मैं पूछना चाहती हूं कि क्या आप अल्लाह से भी नहीं डरते हैं?

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper