गंभीर कोविड रोगियों में कम से कम 2 साल तक दिखाई देते हैं लक्षण, स्टडी में खुलासा

नई दिल्ली: कोविड-19 के कारण अस्पताल में भर्ती हुए लोगों में से कम से कम आधे लोग संक्रमण के दो साल बाद यानी आज तक एक या एक से अधिक लक्षणों से पीड़ित हैं। द लैंसेट रेस्पिरेटरी मेडिसिन में मंगलवार को प्रकाशित एक स्टडी में यह खुलासा हुआ। ज्ञात हो कि कोरोना का सबसे पहले मामला 2019 के अंत में चीन में पाया गया था जिसके बाद पूरी दुनिया में इसका कहर टूट पड़ा था। अब चीन में रोगियों पर आधारित इस स्टडी में लॉन्ग कोविड के आसपास साक्ष्य जुटाए गए हैं जिसमें कहा गया है कि किसी के वायरस से फ्री होने के बाद भी लक्षण बने रहते हैं।

जापान फ्रेंडशिप हॉस्पिटल इन चाइना और स्टडी के प्रमुख लेखक चीन के प्रोफेसर बिन काओ ने एक बयान में कहा, “हमारे निष्कर्ष बताते हैं कि अस्पताल में भर्ती होने के बाद जिन कोविड-19 सर्वाइवर्स ने कोरोना को मात दे दी उन्हें पूरी तरह से ठीक होने के लिए दो साल से अधिक समय की आवश्यकता है।” उन्होंने कहा कि जिन लोगों को बीमारी लंबे समय तक रही है उन कोविड-19 सर्वाइवर्स का लगातार फॉलो-अप करना जरूरी है।

वैज्ञानिक ने कहा, “उन लोगों के एक महत्वपूर्ण अनुपात को निरंतर सहायता प्रदान करने की स्पष्ट आवश्यकता है जिनको कोविड-19 हुआ है। यह समझने के लिए कि टीके, उभरते उपचार और नए कोविड वेरिएंट दीर्घकालिक स्वास्थ्य परिणामों को कैसे प्रभावित करते हैं, इसे समझने के लिए भी उनका लगातार फॉलो-अप करना जरूरी है।” जहां शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में आम तौर पर समय के साथ सुधार हुआ, तो वहीं शोधकर्ताओं ने पाया कि कोविड-19 रोगियों का स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता सामान्य आबादी की तुलना में खराब थी। स्थायी लक्षणों में आमतौर पर निम्न में से एक या अधिक लक्षण शामिल होते हैं: थकान, सांस की तकलीफ और नींद की कठिनाई।

लेखकों ने अस्पताल में भर्ती कोविड-19 सर्वाइवर्स के दीर्घकालिक स्वास्थ्य परिणामों के साथ-साथ लॉन्ग कोविड के विशिष्ट स्वास्थ्य प्रभावों का विश्लेषण किया। अध्ययन के अनुसार, 7 जनवरी से 29 मई, 2020 के बीच छह महीने, 12 महीने और दो साल के बीच वुहान के जिन यिन-टैन अस्पताल में भर्ती हुए तीव्र कोविड-19 के साथ 1,192 प्रतिभागियों को शामिल किया गया था। शुरू में बीमार पड़ने के छह महीने बाद, 68% प्रतिभागियों ने कम से कम एक लॉन्ग कोविड लक्षण की सूचना दी। संक्रमण के दो साल बाद तक, लक्षणों की व्यापकता गिरकर 55% हो गई थी। थकान या मांसपेशियों में कमजोरी सबसे अधिक बार रिपोर्ट की गई। यह कमजोरी की शिकायत छह महीने में 52% से गिरकर दो साल में 30% हो गई।

अपनी प्रारंभिक बीमारी की गंभीरता के बावजूद, 89% प्रतिभागी दो वर्षों में अपने मूल कार्य पर लौट आए। शुरू में बीमार पड़ने के दो साल बाद, कोविड-19 के रोगी आम तौर पर सामान्य आबादी की तुलना में खराब स्वास्थ्य में होते हैं, जिसमें 31% थकान या मांसपेशियों में कमजोरी की रिपोर्ट करते हैं और समान प्रतिशत नींद की कठिनाइयों की रिपोर्ट करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper