चीन में फिर कहर बरपा रहा कोरोना, प्रतिदिन 36 हजार मौतें!

चीन में कोरोना वायरस ने हाहाकार मचा रखा है. जीरो कोविड पॉलिसी खत्म होने के बाद चीन में कोविड-19 के केसों में तेजी से इजाफा देखने को मिल रहा है. कोरोना वायरस से होने वाली मौतों का आंकड़ा भी इस कदर बढ़ रहा है कि श्मशान घाटों में लाशों को दफनाने के लिए लंबी लाइनें लगी हैं. कई दिनों तक लोगों को इंतजार करना पड़ रहा है. इस बीच एक बड़ी खबर सामने हैं कि चीन में रोजाना कोरोना से 36000 लोगों की मौत होने की संभावना है.

चीन में अभी कोरोना महामारी की स्थिति सुधरी ही नहीं है, ऐसे में जब भारी संख्या में लोग चीनी नववर्ष मनाने के लिए अपने घर जाएंगे तब कोरोना केसों और मौतों की संख्या में काफी तेजी आएगी. इससे अनुमान लगाया जा रहा है कि चीन में प्रतिदिन कोरोना से मरने वाले मरीजों की संख्या 36 हजार तक पहुंच सकती है. हालांकि, पिछले हफ्ते ही चीन ने एक आंकड़ा जारी कर माना है कि एक माह में कोविड से 60 हजार लोगों की मौत हुई है, लेकिन चीन ये मानने को तैयार नहीं है कि ये सारी मौतें कोरोना से ही हुई हैं.

मौतों के आंकड़ों को लेकर विशेषज्ञों ने कहा कि चीन में कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की संख्या 60 हजार से 10 गुना अधिक है, क्योंकि चीन ने सिर्फ अस्पतालों में हुई मौतों को ही अपने आंकड़ा में शामिल किया है. ऐसे में घरों में हुई मौतों का आंकड़ा काफी ज्यादा हो सकता है. साथ ही चीन के अस्पतालों में मरीजों को इलाज के लिए बेड उपलब्ध नहीं हैं. वहीं, अगर भारत में कोरोना की बात करें तो यहां कोविड के केसों में गिरावट आ रही है.

वैश्विक स्वास्थ्य खुफिया सेवा एयरफिनिटी के अनुसार, चीन में 26 जनवरी तक प्रतिदिन कोरोना वायरस से 36 हजार लोगों की मौतें हो सकती हैं. वहीं, विश्लेषकों ने अनुमान लगाया है कि प्रदितिन 27 जनवरी तक 6.2 करोड़ लोग कोविड-19 से संक्रमित हो सकते हैं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, चीन कोरोना के संक्रमित और मौतों के आंकड़ों को छिपाने की कोशिश कर रहा है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper