जबलपुर में छापे के दौरान बिशप की 17 संपत्तियां और 48 बैंक खाते मिले

जबलपुर । मध्य प्रदेश के प्रमुख शहर जबलपुर में आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (ईओडब्ल्यू) द्वारा द बोर्ड ऑफ एज्युकेशन चर्च ऑफ नार्थ इंडिया जबलपुर डायसिस के बिशप पी.सी. सिंह के घर और कार्यालय पर दबिश में बड़े खुलासे हुए है। डेढ़ करोड़ से ज्यादा नकदी के साथ विदेशी मुद्रा तो मिली है, इसके अलावा उनकी 17 संपत्तियां और परिवार के 48 बैंक खातों के भी दस्तावेज मिले हैं।

ईओडब्ल्यू की ओर से उपलब्ध कराए गए ब्यौरे से पता चला है कि बिशप के पास नौ गाड़ियां हैं, 17 संपत्तियां और संस्थाओं व परिजनों के 48 बैंक खाते हैं। उनके यहां मारे गए छापे में एक करोड़ 65 लाख 14 हजार की नकदी के अलावा 18 हजार 352 यूएस डालर व 118 पाउंड भी मिले हैं। गुरुवार को ईओडब्ल्यू ने बिशप के नेपियर टाउन स्थित आवास और कार्यालय पर एक साथ दबिश दी थी। नकदी को गिनने के लिए मशीन भी बुलाना पड़ी थी।

ईओडब्ल्यू के पास पी सी सिंह के खिलाफ शिकायत आई थी इसमें आरोप था कि कूटरचित दस्तावेजों के आधार पर उन्होंने मूल सोसाइटी का नाम बदल लिया है और खुद चेयरमैन बन गए। इसके साथ पद का दुरुपयोग किया और उन्होंने शैक्षणिक संस्थाओं से प्राप्त होने वाले छात्रों की फीस की राशि का उपयोग धार्मिक संस्थाओं को चलाने और स्वयं के उपयोग में लगा कर गबन किया है।

ईओडब्ल्यू ने शिकायत की जांच कर आरोपों की पुष्टि के बाद बिशप पी सी सिंह के निवास और कार्यालय पर दबिश दी, इस दबिश के दौरान बड़ी तादाद में नकदी मिली, इसकी गिनती के लिए मशीन भी बुलाई गइ्र्र ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper