जानिए इस साल कब है वट सावित्री का व्रत और क्यों है इतना खास, जानें पूजन विधि और शुभ मुहूर्त

 

Vat Savitri vrat 2022 Date: भारत में एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार ज्येष्ठ अमावस्या या वट सावित्री व्रत है। यह त्योहार हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश, बिहार और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में ज्येष्ठ अमावस्या के रूप में मनाया जाता है, जबकि इसे दक्षिणी राज्यों, गुजरात और महाराष्ट्र में वट पूर्णिमा व्रत के रूप में मनाया जाता है।

त्योहार के दिन, हिंदू महिलाएं उपवास करती हैं और अपने पति की लंबी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना करती हैं। 2022 में ज्येष्ठ अमावस्या 30 मई को मनाई जाएगी जबकि वट पूर्णिमा व्रत 14 जून को मनायी जाएगी।

महत्व

यह त्यौहार देवी सावित्री के सम्मान में मनाया जाता है, जिन्होंने मृत्यु के देवता (यम राज) को अपने मृत पति को जीवन प्रदान करने के लिए मजबूर किया। इस दिन महिलाएं बरगद के पेड़ की पूजा करती हैं। हिंदू चंद्र कैलेंडर के अनुसार, वर्ष में दो बार उत्सव आयोजित किए जाते हैं।

वट सावित्री व्रत के दौरान पूजन विधि:

वट सावित्री व्रत के दिन महिलाएं सूर्योदय से पहले उठ जाती हैं। वे ‘गिंगली’ (तिल के बीज) और ‘आंवला’ से स्नान करती हैं। स्नान के बाद महिलाएं नए कपड़े, चूड़ियां पहनती हैं और माथे पर सिंदूर लगाती हैं।

‘वट’ या बरगद के पेड़ की जड़ को पानी के साथ खाया जाता है। जो महिलाएं इस व्रत को तीन दिन तक करती हैं, वे तीन दिनों तक केवल जड़ ही खाती हैं।

महिलाएं तब पेड़ के चारों ओर पीले या लाल रंग का धागा बांधकर ‘वट’ के पेड़ की पूजा करती हैं। फिर वे पानी, फूल और चावल चढ़ाते हैं। अंत में महिलाएं पेड़ों के चारों ओर जाती हैं, जिन्हें ‘परिक्रमा’ के नाम से जाना जाता है और ऐसा करते समय प्रार्थना करती हैं।

जो लोग बरगद के पेड़ को नहीं ढूंढ सकते या देखने नहीं जा सकते, वे हल्दी या चंदन के पेस्ट का उपयोग करके लकड़ी या प्लेट पर बरगद के पेड़ का चित्र भी बना सकते हैं। इसी तरह पूजा की जाती है और वट सावित्री व्रत पर विशेष व्यंजन बनाए जाते हैं।

वट सावित्री व्रत के दिन महिलाएं घर में बड़ों और विवाहित महिलाओं से आशीर्वाद लेती हैं। वट सावित्री व्रत पर दान करना भी बहुत फलदायी होता है। इस दिन लोग गरीबों और जरूरतमंदों को धन, भोजन और कपड़े दान करते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper