जानें, श्रद्धा की बेरहमी से हत्या के बाद आफताब ने क्‍यों चुकाया उसके क्रेडिट कार्ड का बिल?

नई दिल्ली. श्रद्धा वॉकर हत्याकांड में दिल्ली पुलिस को आफताब के फ्लैट में खून के धब्बे मिले हैं. इनके डीएनए जांच के लिए उसके पिता को बुलाने की संभावना है. पुलिस को उसके कमरे से जांच में खून का कोई धब्बा नहीं मिला. क्योंकि आरोप है कि आफताब ने कमरे की सल्फर हाईपोक्लोरिक एसिड से सफाई की थी. हालांकि पुलिस को किचन में खून का धब्बा मिला है. लेकिन अब तक ये साफ नहीं है कि खून का ये धब्बा किसका है. पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपी आफताब ने पहले श्रद्धा के लीवर और आंतों को कीमा बनाकर निपटाया. चूंकि वह एक प्रशिक्षित रसोइया था, इसलिए वह जानता था कि शरीर के हिस्सों को चाकू से कैसे काटा जाता है. पुलिस सूत्रों ने कहा कि जिगर और आंतों को छतरपुर और महरौली के पास के वन क्षेत्र में फेंका गया था.

ये भी कहा जा रहा है कि आफताब ने श्रद्धा की हत्या के बाद उसके क्रेडिट कार्ड का बिल चुकाया. क्योंकि आफताब को ये डर था कि अगर उसके क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं चुकाया तो तय तारीख के बाद बैंक के लोग श्रद्धा के घरवालों को कॉल करेंगे. जिसके बाद श्रद्धा के घरवाले उससे संपर्क करने की कोशिश करेंगे. दिल्ली पुलिस के एक सूत्र ने बताया कि आफताब ने अपने कबूलनामे में कहा कि 18 मई श्रद्धा की हत्या से एक हफ्ते से अधिक समय पहले ही उसने श्रद्धा को मारने का मन बना लिया था. पुलिस को शक है कि श्रद्धा की हत्या के बाद बाथरूम में श्रद्धा के शरीर के 35 टुकड़े कर दिए गए थे. उसके शरीर के हिस्सों को सीवर में भी बहाया जा सकता है.

इस बीच दिल्ली पुलिस ने डेटिंग ऐप बंबल से आफताब की प्रोफाइल और श्रद्धा की हत्या के बाद उससे मिलने वाली महिलाओं का विवरण मांगा है. पुलिस यह पता लगाना चाहती है कि क्या आफताब ने किसी को ऐप पर डेट किया था. जिसकी वजह से उसने श्रद्धा की हत्या की. इस बीच श्रद्धा के पिता ने मंगलवार को घटना के पीछे ‘लव जिहाद’ का संदेह जताते हुए आरोपी के लिए मौत की सजा की मांग की. श्रद्धा के पिता विकास वॉकर ने कहा, ‘मुझे लव जिहाद का शक है. हम मांग करते हैं कि आफताब को मौत की सजा दी जाए. मुझे दिल्ली पुलिस पर भरोसा है क्योंकि जांच सही दिशा में आगे बढ़ रही है.’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper