जाने क्या है चंद्र ग्रहण के सूतक का समय, इस दौरान न करें ये गलतियां, जीवन पर पड़ेंगी भारी!

नई दिल्ली। साल का आखिरी चंद्र ग्रहण 8 नवंबर की शाम को चंद्रोदय के साथ ही शुरू हो जाएगा. भारत में यह ग्रहण शाम 5 बजकर 20 मिनट से दिखना शुरू होगा. अलग-अलग शहरों में चंद्र ग्रहण दिखने के समय में थोड़ा अंतर रहेगा. इसके अलावा कुछ जगहों पर पूर्ण चंद्र ग्रहण दिखेगा, वहीं कुछ जगहों पर आंशिक चंद्र ग्रहण ही नजर आएगा. चंद्र ग्रहण का सूतक काल 9 घंटे पहले सुबह 8 बजकर 20 मिनट से शुरू होगा.

साल का आखिरी चंद्र ग्रहण भारत में दिखाई देगा लिहाजा धर्म और ज्‍योतिष के अनुसार इसका सूतक काल भी मान्‍य होगा. चंद्र ग्रहण भारतीय समयानुसार, 8 नवंबर की शाम 5 बजकर 20 मिनट से लेकर शाम 6 बजकर 20 मिनट तक रहेगा. ऐसे में चंद्र ग्रहण का सूतक काल आज सुबह 8 बजकर 20 मिनट से शुरू हो जाएगा और मोक्ष शाम को 6 बजकर 59 मिनट पर होगा.

चंद्र ग्रहण के समय के अलावा सूतक काल के लिए भी कुछ काम वर्जित बताए गए हैं. आज सूतक काल के 9 घंटे के बाद ग्रहण खत्‍म होने तक ये काम न करें. यानी कि सुबह 8 बजकर 20 मिनट से शाम को 7 बजे तक ये काम न करें.

– ग्रहण और सूतक के समय भगवान की मूर्ति को स्पर्श नहीं करना चाहिए. साथ ही इस दौरान घर के मंदिर और भगवान की मूर्तियों को साफ कपड़े से ढंक दें.
– चंद्र ग्रहण और सूतक काल के दौरान कुछ भी खाएं-पिएं नहीं. हालांकि बच्‍चे, बुजुर्ग, गर्भवती महिलाओं और बीमार लोगों को इससे छूट रहती है. वे ग्रहण और सूतक के दौरान खा-पी सकते हैं.
– सूतक काल में सोने से बचें. बेहतर होगा कि इस दौरान भगवान का भजन करें. टहलें.
– सूतक काल के दौरान तेल नहीं लगाएं, बाल नहीं कटवाएं, नाखून नहीं काटें.
– ग्रहण और सूतक काल में किसी से विवाद न करें, झूठ न बोलें.
– गर्भवती महिलाएं ग्रहण और सूतक के दौरान नुकीली चीजों जैसे-सुई, चाकू, कैंची आदि का इस्‍तेमाल न करें.
– गर्भवती महिलाएं संभव हो तो ग्रहण के साथ-साथ सूतक काल में भी बाहर निकलने से बचें.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper