टि्वटर के पूर्व सेफ्टी हेड यॉल रोथ ने कहा– एलन मस्क के हाथों में सुरक्षित नहीं कंपनी, यूजर का डाटा भी संकट में!

नई दिल्ली. ट्विटर के ट्रस्ट और सुरक्षा के पूर्व प्रमुख यॉल रोथ ने मंगलवार को कहा कि ट्विटर नए मालिक एलन मस्क के हाथों में सुरक्षित नहीं है. इस महीने अपनी पोस्ट से इस्तीफा देने के बाद उन्होंने साक्षात्कार में चेतावनी दी थी कि कंपनी के पास सुरक्षा कार्य के लिए पर्याप्त कर्मचारी नहीं हैं. हालांकि, रोथ ने मस्क के अधिग्रहण के बाद ट्वीट किया था कि ट्विटर सुरक्षा में कुछ सुधार हुआ है.

रोथ का कहना है कि ट्विटर ब्लू प्रीमियम सब्सक्रिप्शन में बदलाव ट्रस्ट और सुरक्षा टीम की चेतावनियों के बावजूद लॉन्च किया गया. इसके जरिए यूज़र्स को उनके ट्विटर अकाउंट में एक वेरीफाईड चेकमार्क के लिए 8 अमेरिकी डॉलर के भुगतान का प्रावधान किया गया है. पर्याप्‍त सुरक्षा टीम नहीं होने से यूजर्स के डाटा पर भी खतरा बढ़ सकता है.

रोथ ट्विटर में एक प्रमुख भूमिका में थे, जिन्होंने पिछले साल ट्विटर के सबसे प्रसिद्ध यूज़र पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को स्थायी रूप से निलंबित करने के कदम सहित कई वाटरशेड फैसलों के माध्यम से इस प्लेटफॉर्म को चलाने में मदद की थी. रोथ के हटने के बाद कंटेंट मॉडरेशन से जुड़े कई विज्ञापनदाताओं ने मस्क द्वारा आधे कर्मचारियों को हटा दिए जाने के बाद ट्विटर से दूरी बना ली.

मस्क ने ट्विटर का अधिग्रहण करने के बाद 19 नवंबर को पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के ट्विटर अकाउंट को बहाल करने को लेकर एक ट्वीट किया. मस्क ने एक ट्विटर पोल करके बताया कि इस कदम के पक्ष में मतदान करने के बाद ट्रम्प के खाते को बहाल कर दिया जाएगा. अब ट्विटर पर ट्रम्प का अकाउंट फिर से बहाल कर दिया गया है.

मस्क के अधिग्रहण के बाद उनके एकतरफा निर्णयों के कारण ट्विटर ने लिखित और सार्वजनिक रूप से उपलब्ध नीतियों का पालन नहीं किया है. रोथ ने इसे अपने इस्तीफे का कारण बताया है. उन्होंने कहा “मेरी सीमाओं में से एक यह था कि अगर ट्विटर नीति के बजाय तानाशाही आदेश से चलना शुरू कर देता है तो उसमें मेरी भूमिका की कोई ज़रूरत नहीं है.”

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper