डायबिटीज ,मोटापा सहित इन बिमारियों से निजात दिलाये गोंद

नई दिल्ली: मौसम बदलते ही लोगों के खानपान में भी बदलाव आने लगता है। गर्मियों में ठंड़ी तो सर्दियों में लोग अपनी डाइट में उन चीजों को शामिल करना पसंद करते हैं जो उनके शरीर को अंदर से गर्म रखने के साथ शरीर की कमजोरी को भी दूर करने का काम करती है। ऐसी ही एक चीज का नाम है गोंद। गोंद प्रकृति से मिला एक अनोखा उपहार है। जिसको खाने से बहुत सारे फायदे होते हैं।

गोंद से मिलने वाले लाभ को देखते हुए गर्भवती महिलाओं से लेकर स्तनपान कराने वाली माताओं तक को गोंद से बने लड्डू खाने की सलाह दी जाती है। आइए जानते हैं रोजाना एक गोंद का लड्डू खाने से आखिर शरीर में कौन से जादुई बदलाव देखने को मिलते हैं।

gond

गोंद क्या है ?

यह गोंद बबूल के पेड़ के तनों और शाखाओं से निकलता है। जो सुखकर भूरा और कड़ा हो जाता है। जिसें गोंद कहते है। इसे कई लोग ‘गाद’ नाम से भी जानते है। गोंद पौष्टिक आहार से भरपूर होने के कारण औषधिय गुणों की भरमार है।बबूल के पेड़ से निकली हुई गाद सबसे अच्छी मानी जाती है |

गोंद खाने से होने वाले फायदे के बारे में ……

# अगर आप अपना इम्यूनिटी सिस्टम मजबूत करना चाहते है तो रोजाना 1-2 लड्डू का सेवन दूध के साथ करना चाहिए।

# गोंद आपके वजन को कम करने में मदद करता है। यह शरीर से वसा को कम करने में मदद करता है। एक रिसर्च के अनुसार, अगर महिलाएं गोंद का सेवन लगातार 6 हफ्ते करें तो आपके शरीर में वसा की काफी हद तक कमी आ जाती है |

# कैंसर में एंटीकार्सिनोजेनिक नामक तत्व पाया जाता है। जो कैंसर के सेल्स को खत्म करने में मदद करता है।

# गोंद में ऐसे गुण पाए जाते है जो डायबिटीज को कंट्रोल करने में काफी मदद करता है। इसके अलावा इसका सेवन करके हानिकारक कोलेस्ट्रोल एलडीएल को कम करता है।

# गोंद डिप्रेशन में से निकलने में मदद करता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने में मदद करते हैं।

# गोंद हड्डियों को मजबूत करने में मदद करता है।

# रोजाना भुनी हुई गोंद खाने से हार्ट अटैक का खतरा कम होता है।

# गोंद में मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। जो टॉन्सिल से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper